Vashuda Ka Neta Kaun Hua? (An excerpt from Rashmirathi)

वसुधा का नेता कौन हुआ? (रश्मिरथी)
- रामधारी सिंह दिनकर (Ramdhari Singh Dinkar)

सच है, विपत्ति जब आती है,
कायर को ही दहलाती है,
शूरमा नहीं विचलित होते,
क्षण एक नहीं धीरज खोते,
विघ्नों को गले लगाते हैं,
काँटों में राह बनाते हैं।

मुख से न कभी उफ कहते हैं,
संकट का चरण न गहते हैं,
जो आ पड़ता सब सहते हैं,
उद्योग-निरत नित रहते हैं,
शूलों का मूल नसाने को,
बढ़ खुद विपत्ति पर छाने को।

है कौन विघ्न ऐसा जग में,
टिक सके वीर नर के मग में
खम ठोंक ठेलता है जब नर,
पर्वत के जाते पाँव उखड़।
मानव जब जोर लगाता है,
पत्थर पानी बन जाता है।

गुण बड़े एक से एक प्रखर,
हैं छिपे मानवों के भीतर,
मेंहदी में जैसे लाली हो,
वर्तिका-बीच उजियाली हो।
बत्ती जो नहीं जलाता है
रोशनी नहीं वह पाता है।

पीसा जाता जब इक्षु-दण्ड,
झरती रस की धारा अखण्ड,
मेंहदी जब सहती है प्रहार,
बनती ललनाओं का सिंगार।
जब फूल पिरोये जाते हैं,
हम उनको गले लगाते हैं।

वसुधा का नेता कौन हुआ?
भूखण्ड-विजेता कौन हुआ?
अतुलित यश क्रेता कौन हुआ?
नव-धर्म प्रणेता कौन हुआ?
जिसने न कभी आराम किया,
विघ्नों में रहकर नाम किया।

जब विघ्न सामने आते हैं,
सोते से हमें जगाते हैं,
मन को मरोड़ते हैं पल-पल,
तन को झँझोरते हैं पल-पल।
सत्पथ की ओर लगाकर ही,
जाते हैं हमें जगाकर ही।

वाटिका और वन एक नहीं,
आराम और रण एक नहीं।
वर्षा, अंधड़, आतप अखंड,
पौरुष के हैं साधन प्रचण्ड।
वन में प्रसून तो खिलते हैं,
बागों में शाल न मिलते हैं।

कङ्करियाँ जिनकी सेज सुघर,
छाया देता केवल अम्बर,
विपदाएँ दूध पिलाती हैं,
लोरी आँधियाँ सुनाती हैं।
जो लाक्षा-गृह में जलते हैं,
वे ही शूरमा निकलते हैं।

बढ़कर विपत्तियों पर छा जा,
मेरे किशोर! मेरे ताजा!
जीवन का रस छन जाने दे,
तन को पत्थर बन जाने दे।
तू स्वयं तेज भयकारी है,
क्या कर सकती चिनगारी है?

Topic: 

Comments

BAHUT LAMBA HAI PAR . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . ACHA HAI MAKE IT SHORT YAAR

Hi... This version is actually shorter version. It is much longer and very beautiful composition glorifying karan in mahabharat. @sitemaster: Thanks for posting. Can you post the full poem

very inspirational

i like Sh Raamdhari ji's veer rus kavitas a lot... thanks ADMIN. himanshu

This is not a poem only, its the sound of my soul....really dinkar jee i love you. Now i am wordless.

Maine pira summer vacation is poem ko padhne me laga diya itna bada daan maine ker diya jao ki karn se kahi bahut adhik h.

achhaa hai par bahut badaa hai.............. yaad karna bahut mushkil hai.... hindi recitation compitition hai..............

these are best lines

veer ras ki shaktiyon se paripurn hai ye adbhut rachna.......dhanya hai aise adhbut kavi.

Being on social media web sites can build up an adhering to from authentic individuals who
like exactly what you give, be it a solution or item.
Sharing the best sort of information or deals
through your social networks pages you can get your followers to
captivate in your company, if your fans think that what you
article is something one of their good friends might like, they can share the blog
post which consequently will create a brand-new hyperlink to your internet site and show
that your a preferred business in examinations of the public which will certainly consequently boost your online search engine rankings.

this is a great poem. Please post the full version.

This variety of a bid will generally include several different factors such as ideal venues in the host
region as nicely as cultural details and data.
The sole function of making this bid or proposal is to sway the
FIFA board of executives to allow your region to host the World
Cup. It truly is essential to be aware that no a single place has ever hosted this opposition two moments in a
row. On prime of that, FIFA usually has the World Cup in a
diverse area of the world each and every year. This
makes it possible for every single area of the world to
have an equivalent share in internet hosting this worldwide FIFA competition.

Hello! TҺis post could not be writtеn any better! Reaɗing this post reminds me of
my old room mate! He always kept chatting about this.
I wіll forwаrd this write-up to him. Pretty sure Һe will have а good read.
Thanks for sharing!