Hindi Poems (हिंदी कविताएं / Poetry)

Poets and their poems have their unique styles of expressing the intricacies of life. Sometimes they bring a smile, sometimes they exhort, sometimes they elighten, and sometimes they seem to mirror realities of our own life..

Famous Hindi Poems (Famous Hindi Kavita)

This page presents some of the my favorite hindi poems. Especially this is more or less about famous hindi poems. Somehow english poems never have that effect on me as hindi poems ..

इस पेज पर हिंदी की प्रसिद्ध कवितओं का एक अनोखा कलेक्शन है.

राम प्रसाद बिस्मिल (Hindi Poems of Ram Prasad Bismil)

रामधारी सिंह दिनकर (Hindi Poems of Ramdhari Singh Dinkar)

मैथिलीशरण गुप्त (Hindi Poems of Maithili Sharan Gupt)

कैफी आजमी (Hindi Poems of Kaifi Azmi)

हरिवंशराय बच्चन (Hindi Poems of Harivansh Rai Bachchan)

गुलज़ार (Hindi Poems of Gulzar)

स्वामी विवेकानंद (Hindi Poems of Swami Vivekananda)

धर्मवीर भारती (Hindi Poems of Dharamvir Bharti)

सुभद्रा कुमारी चौहान (Hindi Poems of Subhadra Kumari Chauhan)

मिर्ज़ा ग़ालिब (Hindi Poems of Mirza Ghalib)

दुष्यंत कुमार (Hindi Poems of Dushyant Kumar)

रबिन्द्रनाथ टैगोर (Hindi Poems of Rabindranath Tagore)

शिवमंगल सिंह सुमन (Hindi Poems of Shiv Mangal Singh Suman)

सर्वेश्वरदयाल सक्सेना (Hindi Poems of Sarveshwar Dayal Saxena)

माखनलाल चतुर्वेदी (Hindi Poems of Makhanlal Chaturvedi)

सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला" (Hindi Poems of Suryakant Tripathy Nirala)

रामावतार त्यागी (Hindi Poems of Ram Avtar Tyagi)

गोपालदास "नीरज" (Hindi Poems of Gopaldas Neeraj)

संत कबीर (Sant Kabir)

फैज़ अहमद फैज़ (Faiz Ahmed Faiz)

जयशंकर प्रसाद (JaiShankar Prasad)

सोहन लाल द्विवेदी (Sohan Lal Dwivedi)

द्वारिकाप्रसाद माहेश्वरी (Dwarika Prasad Maheshwari)

कैप्टन राम सिंह (Captain Ram Singh)

महादेवी वर्मा (Mahadevi Verma)

मुहम्मद इक़बाल (Muhammad Iqbal)

गिरिजाकुमार माथुर (Girijakumar Mathur)

महेन्द्र भटनागर (Mahendra Bhatnagar)

कवि प्रदीप (Kavi Pradeep)

केदारनाथ अग्रवाल (Kedarnath Agarwal)

गोपाल सिंह नेपाली (Gopal Singh Nepali)

हरिओम पंवार (Hari Om Panwar)

रामदरश मिश्र (Ramdarsh Mishra)

Hindi Poems (Kavita) Historical Development

Hindi Poems and Poetry (hindi kavita) can be divided into multiple era based on prevalent style of poems created in that era:

  • Vir-Gathas kavita - poems extolling warriors : 11th–14th century
  • Bhakti era kavita - devotional poems : 14th–18th century
  • Riti or Srngar kavita - poems of romance : 18th–20th century
  • Adhunik kavita - moderna kavita : 20th century onwards

Adhunik Kavita Yug can be further divided into following sub groups:

  • Dwivedi Yug: from 1900 to 1918
  • Chhayavaadi Yug: 1918 to 1937
  • Adhunik Yug - 1937 onwards

Hindi Poetry News

  • Poetry with Prakriti Festival in Bangalore

    Nov 28, 2016

    ‘Poetry with Prakriti’ festival is being organized in Bangalore from Nov 29 to Dec 14, 2016. It will features 30 eminent and emerging poets (including hindi poets) from across the world, who will read excerpts of their poems as well as have discussions with the audience.

  • ABP NEWS - महाकवि (Mahakavi)

    Nov 15, 2016

    ABP NEWS has started a show anchored by Kumar Vishwas on famous hindi poets. First episode of this show covered the life and poetic journey of famous hindi poet Ramdhari Singh Dinkar.

Comments

  • Ami
    14 Sep 13
    kashti ko sikhai hai mallah ne do baate
    tufa se gujar jana sahil pe thahar jana
    oosum!!!!
  • Anonymous
    29 Jul 13
    great site. i got all poems for my project.
  • deepa maurya
    28 Jul 13
    very bad
  • red
    28 Jul 13
    hello
  • ashutosh
    21 Jul 13
    shahansheelta kshama daya ko
    tabhi poochta jag hai
    bal ka darp chamakta
    jab uske peeche jagmag hai

    could anyone please tell the name of poem n author
  • Anonymous
    19 Jul 13
    wasn't able to find a single poem of my requirement
  • kishor vaibhav abhay
    27 Jun 13
    shayad koshish karne walo ki har nahi hoti ye hariwansh ray bachchan ki hai, aur aur hm panchi suryakant ji ki.. pls if i m wrong correct me.. i m not blameing i m cnfused..:)
  • Anonymous
    24 Jun 13
    nyc site ..........if u have any poem with the lines as satya hai girti jab gaaj kathi bhu dhar ka ur khul jata hai , jab chakra chalta hai mastak shishupalon ka kat jata hai
  • Anonymous
    23 Jun 13
    prashantmanitripathi
  • MAYANK KUMAR GUPTA
    15 Jun 13
    Tamnnaa thee ki aaj kuch paa lain lekin aaj phir khaali rah gaye....na hai shikwa kisi se na khud se lekin sikwa man main rah gayi ........tha sabhi ke beech main lekin phir bhee apne aap main akela rah gaya......
  • Jayesh Sanghani
    11 Jun 13
    Thanks for compiling some of the immortal poetry by immortal poets.
  • Sharvani
    19 May 13
    want a gud poem on baarish. plz hel!!!!!!!!!!!!!!!!!!!! urgent.









  • सच्चिदानंद
    04 May 13
    कया आपके पास सुमित्रानंदन पंत लिखित "जय जन भारत" ये कविता है ?
    अगर है तो कृपया पोस्ट करे :)
  • cs prasad
    03 May 13
    very interesting and informative excellent !
  • yashi
    30 Apr 13
    Man......... this site really helps in hindi oral project !!!! ^0^
  • denesh
    22 Apr 13
    Dil Bhar Gaya, Ye Sangrah pakar
  • princess kjl
    07 Apr 13
    bad !
    should add more collection .! :/
  • Pankaj Kumar
    02 Apr 13
    Superb collection!! thanks a lot for sharing a part of priceless gift of Indian literature.
  • harsh mahajan
    26 Mar 13
    nice work
  • ashutosh singh
    20 Mar 13
    My grandfather told me a poem few days back. the lines go like this " kabhi kabhi ghee bhi milta tha, yadyapi woh tha hi kitna.." He said it was written by maithali sharan gupt and titled "mera bachpan" but I couldnt anything like that under rashtra kavi. My grand dad is now 93 yrs old and may have forgotten the actual name or poet, though he says he is sure of that (having being a hindi professor). Has anyone of you guys have heard of a poem like that? If yes, then kindly share.
    Regards
    Dr. Ashutosh Singh
  • Tathagat Verma
    01 Mar 13
    Tank you for this. Should also add works of "Shri Sumitranandan Pant".
  • fedkekd
    24 Feb 13
    Hello! ffbddea interesting ffbddea site!
  • Anonymous
    22 Feb 13
    This site is very nice. It helps children i project work too.
  • yug
    25 Jan 13
    bestest site of hindi poems ever
  • Anonymous
    13 Jan 13
    suck my lolliopodsgbdbajbd assfufffffffffffffffffffffffffffffffffffffffffffffffffffffffffffffffffffffffffffffffffffffff
  • Anonymous
    13 Jan 13
    kataudiooksadskd s;s js djwjjjewjjfff/ djej;sjfjjwlfjsn wjlflwjljmfmd
  • jeewan c thuwal
    25 Dec 12
    excellent collection...........thanks
  • Vibha Kapoor
    14 Dec 12
    Wonderful Collection of Poems...Gr8 site...Really liked it..
    Thanx :)
  • rupak gurjar
    09 Dec 12
    best site of poems
  • appeleahMuh
    09 Dec 12
    good!
  • anurag
    05 Nov 12
    pls post 1 poem by ramdhari singh dinkar n send it to me also. The poem goes like dis-
    kami hai bas samarpan me nahi to yug badal jata....
  • jp pandey
    03 Nov 12
    very good, pls put up more such poems
  • Nishith C Shrivastava
    03 Oct 12
    Excellent collection of Hindi poems.4
  • Anonymous
    14 Aug 12
    Great Collection
  • honey singh
    03 Jul 12
    poem milti hie nahi hai ghatiya site
  • Dr Rakesh Singh
    01 Jul 12
    बचपन में एक कव्विता पढ़ी थी जो अब याद नहीं रही .........ढूँढने का प्रयास कर रहा हूँ.........उसी क्रम में यह साईट मिल गयी .....कविता यूँ है .......
    नहीं हुआ है अभी सवेरा सूरज की लाली पहचान ..........चिड़ियों के उठने से पहले खाट छोड़ उठ गया किसान
    अगर किन्ही महानुभाव को यह कविता याद हो तो reply में पोस्ट करें
    धन्यवाद
  • admin
    03 Jul 12
    I was not able to find the complete poem but here are few lines that I got:

    नहीं हुआ है अभी सवेरा,
    पूरब की लाली पहचान,
    चिड़ियों के जगने से पहले,
    खाट छोड़ उठ गया किसान,
    खिला पिला बैलों को ले वह चला खेत पर करने काम|
  • Mark
    29 Jun 12
    I like this site.
  • SAJAL SRIVASTAVA
    08 Jun 12
    I am searching a poem from Ramdhari Singh Dinkar.
    Here is few words from.....
    "Vikal bikhre hain o nirupay
    samnvay unka kare samast
    vijayani manavta ho jaye."

    Please help me to search full poem.
    Thanks.
  • Anonymous
    05 Jun 12
    very nice
  • Anonymous
    29 May 12
    I asked for funny poems???????????.........
    Do u have / not?
  • navin
    27 May 12
    bahut - bahut dhanyawad , sach - much in sabdon m jadoo h..!!!
  • Suryalaam
    27 May 12
    this is really really really good collection
  • Daino Kurrey
    16 May 12
    Apki Kavita Man ko chhu leti hai . Mai kavita post karne ka site search kar raha tha to ye site mila . bahut achha laga.
  • Anonymous
    06 May 12
    this site is a very useful site and it helped me in my project
  • Yash
    29 Apr 12
    This Collection Really Helped Thank You For Uploading And Sharing! :)
  • Anonymous
    10 Apr 12
    Can you please post the Karn-Arjun duel of mahabharat by Ramdhari Singh Dinkar, in which Ashwasen offers help to Karna.
  • Ritesh Sharma
    20 Mar 12
    A great poet he was..... A tribute to him
  • Rashmita
    15 Feb 12
    these all poems are really awesome. i read them all and i felt very energetic and these poems & songs are really good collection. this is very good thing that i got my favorite songs and poems on same page.
  • vanshi
    12 Feb 12
    i remember the poem and the poet who is - ramdhari singh dinkar, but i dont emember the poem name.
    the poem goes like this...

    itna kucch hai bhara vibhav ka
    kosh prakriti ke bhitar,
    nij icchit sukh bhog sahaj hi paa sakte naari nar
    sab ho sakte tusht ek sa,
    sab sukh paa sakte hain,
    chahen to pal mein dharti ko swarg bana sakte hain.


    chipa diye sab tatv aavran ke niche ishvar ne,
    sangharshon se khoj nikaala
    unhe uddyami nar ne.............

    pls anyone tell me the name of the poem and he link where i can find the whole poem.
  • Surabhi
    06 Feb 12
    Some of these poems like "veer tum badhe chalo" and "Jhansi wali rani" were in our course in school...Those days I learnt them by heart and still when I recite never miss a word..
    These are the golden poems one can never forget these.
  • Anonymous
    14 Jan 12
    तंग गलियारों से गुजरी मैं, कुछ साए मुझसे चिपट गए
    समझा ही नहीं कब साए किस्मत बन गए ?
    सायो का अँधियारा अब किस्मत पर छा गया
    पलक झपकते ही सारा खेल बदल गया

    सोचती हूँ शायाद गलियारे न जाती
    तो न ये साए होते न ये अन्धीयारी किस्मत
    प़र क्या ये सच है की गर रास्ता बदल जाता तो
    किस्मत भी बदल जाती?

    कही ये तो नहीं की अँधियारा ही मेरी किस्मत थी
    गलियारे बदल जाते पर ये साए मुझे ढूंढ ही लेते
    आकर फिर भी चिपट ते, किस्मत पर छाते
    निर्दोष गलियारे नाहक बुरे बन गए
  • Anonymous
    11 Jan 12
    i like these all poems very much
  • ak jha
    02 Jan 12
    gr8. Your website is very inspiring. Kudoes to you for the effort. why don't you make it a collaborative effort where anyone who wants to publish hindi poems whether their own or a nice old one can do so and increase the knowledge bank.

    u see we have lots of college students who fancy themselves in hindi poem writing...they don't publish it bcoz of lack of opportunity or just bcoz they feel itis just timepass. as they grow up and join jobs the creativity is stifled by the rigors of life.
  • Rahul
    22 Dec 11
    I am big fan of hindi shayaris. And I really want that people share their list of wonderful shayaris from Ghalib (Urdu Master) please. Comparing the level of Ghalib’s to any other ’shayars’,
    we find a huge difference. I believe Ghalib’s shayaris can tell you all what can be written in two pages in just two lines as compared to the other writers whom I am under any circumstances NOT criticising. Lets add all the shayaris by Ghalib and lets make this page a worth reading once someone just gets in. However, if someone has really good ones, kindly add them even if they are yours or from some other writers. Use your wit to judge the level.
  • Anonymous
    18 Dec 11
    Hi friend,
    First of all i want to say, this is an awesome collection. If you can arrange the poem by makhanlal chaturvedi ji-
    "Bahut ho chuki maan manauti ki baatein
    aaj hum karein apni baatein unki ghatein..."

    Please mail me, i will be really thankful to you.
    Hope to hear from you son..:)
    Thanx in advance
  • Anonymous
    13 Dec 11
    मैंने बचपन में एक कविता पढ़ी थी, जिसका शीर्षक में भूल गया हूँ | अगर आप को कविता मिल जाये, कृपया, अपने वेबसाईट पर डाल दीजिये और मुझे ईमेल से भेज दें | उस कविता का एक अंश ऐसे है:

    बनवीर नेत्र अंगार किये
    कर में नंगी तलवार लिए
    मैंने देखा है अभी अभी
    उसने बिक्रम के प्राण लिए
    जल्दी बोलो क्या करना है
    घनघोर घटा घिर जाएगी
    छिन गया उदय हाथों से यदि
    मुख पर कालिख लग जाएगी
    हमें अपना सर देकर भी
    उदय की जान बचानी है
    पन्ने पन्ने पैर लिखी हुई
    पन्ना की करुण कहानी है|
  • deepak
    31 Oct 11
    acchi hai......................
  • ishan sharma
    29 Oct 11
    REALY IT IS A WONDERFUL SITE...I LIKE THIS.... COLLECTION OF POEMS ARE SO GOOD
  • BHUWAN CHANDER BHATT
    02 Oct 11
    ITS WONDERFUL TO SEE THESE POEMS IN HINDI FONTS . PLEASE KEEP UP THE GOOD WORK AND BRING MORE POEMS FROM MORE INDIAN POETS . REGARDS

  • MANAS SAXENA
    19 Sep 11
    ALL D ABOVE DIGNATERIES R PIONEERS OF HINDI LITERATURE....
    I HV READ MNY OF D POEMS WRITTEN BY DESE PEOPLE.....DEY HV WRITTEN BEYOND MY IMAGINATIONS.
    INSPIRED BY KAVIVAR SHIV MANGAL SINGH SUMAN....I WROTE DIS POEM...HOPE U ALL VIL LIKE AND APPRECIATE IT..


    JEEVAN PATH

    US PATH KO HAE SHAT SHAT NAMAN MERA , JIS PATH PE MILA THA MUJHE SAVERA
    RAHI HAIN US PATH KE HUM SAB , PHIR KYUN KISI KO TAAP , KISI KO HAE CHANV KI MADHUR BELA
    HAR RAHGEER AYA THA AKELA , NAMAN KAR IS PATH KO VIMUKT HOGA BHI AKELA....
    JAHAN DUKHOON KI LAHROON KE VO THAPEDE HAIN...
    VAHIN SUKH SE PRAJVALIT ANEKOON DIYE HAIN....
    YAHAN KOI SWARTH KI MAYA ME HAE KHOYA ,
    KOI NISVARTH BHAV SE MOKSH HAE PAYA....
    SAMKAKSH JISKE HAIN VIRANE , JAJVALYAMAN HAIN KAHIN USKE LIYE MAIKHANE....
    PHIR BHI JIS KO YAHAN ANDHER HUA , USKO SURYA NE PRAJVALIT KIYA....
    USHNA NE JAB DEH KO NAM KIYA , IS PATH KE TARU NE , KIS KO NAHIN YAHAN , VISHRAM DIYA....
    US PATH KO HAE SHAT SHAT NAMAN MERA , JIS PATH PE MILA THA MUJHE SAVERA....

    IS PATH PAR , RAEN NE KIYA JO TAM KA UDGHOSH , KYA NAHI VYAPT KIYA VO MADHOSH SAVERA....
    ANDHIYOON NE JAB PATHIKOON KO KIYA ATANKIT , VARSHA NE KIYA US GUBAR SE SWATANTRIT.....
    JIS PATH PE HAR RAHI AGRASAR HUA , KYUN USKI MAHATVATA KO HAE HAE BHUL CHALA....
    HAR RAHI KO HAE ISNE JEEVANDAN DIYA , ANGINAT PATHIKOON KO VISHRAM DIYA....
    SPARSH SE JISKE CHALNA SEEKHA , KYUN USKO HAE YUN BHULA DIYA.....
    JIS PATH NE ASHAOON KO NAAM DIYA , KYUN USKA HAE YUN APMAAN KIYA....
    JIS PATH NE , PATHIKOON KO APNO KA SATH DIYA , USKO KYUN NAHIN UCHIT SAMMAN DIYA...
    HAE MERA SHAT SHAT NAMAN US PATH KO...JISNE MUHE YE SANSAR DIYA....
    JISNE MUJHE YE SANSAR DIYA....
  • Anonymous
    19 Sep 11
    all these were in my hindi text books and felt as if passed through the classes again.

    Very nice.
  • Anonymous
    24 Aug 11
    awesome
  • anila
    09 Aug 11
    should have more collection of poems
  • Anonymous
    07 Aug 11
    awesome work....liked it!!!!
  • Neha
    07 Aug 11
    अजनबी सी राहों में,
    दूर तक निगाहों में ,
    तीश्नगी का मौसम है,
    बेरुखी का मौसम है,

    आज फिर निगाहों को
    बीते कल की प्यास है,

    ऐसा लगता है जैसे,
    चाँद फिर उदास है,


    रंग फीके फीके हैं,
    तारे रूठे रूठे हैं,
    बादलों का शोर है,
    खिज़ां खिज़ां ये दौर है,
    इस कदर अकेले में
    प्यार की तलाश है,

    ऐसा लगता है जैसे,
    चाँद फिर उदास है,


    अजब है दिल की वेह्शातें,
    और आस पास आहटें ,
    जिसको ढूँढना चाहो,
    उसको ढून्ढ कब पाओ,
    फिर रहा हूँ दरबदर ,
    मुझे उसकी आस है,

    ऐसा लगता है जैसे,
    चाँद फिर उदास है,


    बात तो करे कोई,
    साथ तो चले कोई ,
    ख़ामोशी के पहरे हा,
    ज़ख़्म दिल के गहरे है,
    आज वो मिले मुझको दर्द जिसको रास है ,

    ऐसा लगता है जैसे,
    चाँद फिर उदास है,
  • Cherry
    31 Jul 11
    fantastic collections... i loved every one of them... many of them we studied in school... many thanks.
  • Sunny
    06 Aug 11
    Grt work
  • pretty
    18 Jul 11
    hi ............... ur website zoot's
    i loved ur wesite
    its nice one
    dont feel bad when others
    say that ur website is bad
    i dont know why they called like that
    maybe its because they dont like hindi poems
    or something else ......
    anyway keep on putting hindi poems
    in this website
    ok ????
    anyway let me tell about myself
    i am from kerala in india only
    its also known as gods own country
    ok bye bye
  • SWAT
    22 Jun 11
    There's no poem for nature.........?
  • Anonymous
    06 Feb 12
    You search for "satpura ke ghane jungle"
  • ANB
    18 Jun 11
    PLEASE ADD AS MUCH AS NEW HINDI POEMS FOR CLASS 1 TO 10.
    COLLECTIONS ARE GOOD

    KEEP IT UP. VERY HELPFUL IF YOU ADD STILL MORE HINDI AND ENGLISH POEMS.
  • Anonymous
    13 Jun 11
    dis poem collection is boring. i know each and every poem on this website.
  • Anannd Sharma
    05 Jun 11
    yeh ek acchi suruat hai isse hamare yuva ko ek rerna shrot milega
  • vernika sharma
    31 May 11
    this site is worst......................................................................................................................................................................
  • Mansi
    26 May 11
    i love this site!
    Here,I get a poem or about the poet which i require urgently!
    thankyou Pryogshala...
  • Anonymous
    25 May 11
    I wanted to look for rabindranath tagor'shindi poems but it doesn't shows any.
  • getting bored!
    03 May 11
    nice site but should have more of Rabindranath Tagore as he is the best..............overall good!!!!!!

  • Anonymous
    21 Apr 11
    its nice but i want some others..........mainly i need gudri mein laal
  • Ashish
    28 Mar 11

    मधुशाला
    मृदु भावों के अंगूरों की आज बना लाया हाला,
    प्रियतम, अपने ही हाथों से आज पिलाऊँगा प्याला,
    पहले भोग लगा लूँ तेरा फिर प्रसाद जग पाएगा,
    सबसे पहले तेरा स्वागत करती मेरी मधुशाला।।१।

    प्यास तुझे तो, विश्व तपाकर पूर्ण निकालूँगा हाला,
    एक पाँव से साकी बनकर नाचूँगा लेकर प्याला,
    जीवन की मधुता तो तेरे ऊपर कब का वार चुका,
    आज निछावर कर दूँगा मैं तुझ पर जग की मधुशाला।।२।

    प्रियतम, तू मेरी हाला है, मैं तेरा प्यासा प्याला,
    अपने को मुझमें भरकर तू बनता है पीनेवाला,
    मैं तुझको छक छलका करता, मस्त मुझे पी तू होता,
    एक दूसरे की हम दोनों आज परस्पर मधुशाला।।३।

    भावुकता अंगूर लता से खींच कल्पना की हाला,
    कवि साकी बनकर आया है भरकर कविता का प्याला,
    कभी न कण-भर खाली होगा लाख पिएँ, दो लाख पिएँ!
    पाठकगण हैं पीनेवाले, पुस्तक मेरी मधुशाला।।४।

    मधुर भावनाओं की सुमधुर नित्य बनाता हूँ हाला,
    भरता हूँ इस मधु से अपने अंतर का प्यासा प्याला,
    उठा कल्पना के हाथों से स्वयं उसे पी जाता हूँ,
    अपने ही में हूँ मैं साकी, पीनेवाला, मधुशाला।।५।

    मदिरालय जाने को घर से चलता है पीनेवला,
    'किस पथ से जाऊँ?' असमंजस में है वह भोलाभाला,
    अलग-अलग पथ बतलाते सब पर मैं यह बतलाता हूँ -
    'राह पकड़ तू एक चला चल, पा जाएगा मधुशाला।'। ६।

    चलने ही चलने में कितना जीवन, हाय, बिता डाला!
    'दूर अभी है', पर, कहता है हर पथ बतलानेवाला,
    हिम्मत है न बढूँ आगे को साहस है न फिरुँ पीछे,
    किंकर्तव्यविमूढ़ मुझे कर दूर खड़ी है मधुशाला।।७।

    मुख से तू अविरत कहता जा मधु, मदिरा, मादक हाला,
    हाथों में अनुभव करता जा एक ललित कल्पित प्याला,
    ध्यान किए जा मन में सुमधुर सुखकर, सुंदर साकी का,
    और बढ़ा चल, पथिक, न तुझको दूर लगेगी मधुशाला।।८।

    मदिरा पीने की अभिलाषा ही बन जाए जब हाला,
    अधरों की आतुरता में ही जब आभासित हो प्याला,
    बने ध्यान ही करते-करते जब साकी साकार, सखे,
    रहे न हाला, प्याला, साकी, तुझे मिलेगी मधुशाला।।९।

    सुन, कलकल़ , छलछल़ मधुघट से गिरती प्यालों में हाला,
    सुन, रूनझुन रूनझुन चल वितरण करती मधु साकीबाला,
    बस आ पहुंचे, दुर नहीं कुछ, चार कदम अब चलना है,
    चहक रहे, सुन, पीनेवाले, महक रही, ले, मधुशाला।।१०।

    जलतरंग बजता, जब चुंबन करता प्याले को प्याला,
    वीणा झंकृत होती, चलती जब रूनझुन साकीबाला,
    डाँट डपट मधुविक्रेता की ध्वनित पखावज करती है,
    मधुरव से मधु की मादकता और बढ़ाती मधुशाला।।११।

    मेंहदी रंजित मृदुल हथेली पर माणिक मधु का प्याला,
    अंगूरी अवगुंठन डाले स्वर्ण वर्ण साकीबाला,
    पाग बैंजनी, जामा नीला डाट डटे पीनेवाले,
    इन्द्रधनुष से होड़ लगाती आज रंगीली मधुशाला।।१२।

    हाथों में आने से पहले नाज़ दिखाएगा प्याला,
    अधरों पर आने से पहले अदा दिखाएगी हाला,
    बहुतेरे इनकार करेगा साकी आने से पहले,
    पथिक, न घबरा जाना, पहले मान करेगी मधुशाला।।१३।

    लाल सुरा की धार लपट सी कह न इसे देना ज्वाला,
    फेनिल मदिरा है, मत इसको कह देना उर का छाला,
    दर्द नशा है इस मदिरा का विगत स्मृतियाँ साकी हैं,
    पीड़ा में आनंद जिसे हो, आए मेरी मधुशाला।।१४।

    जगती की शीतल हाला सी पथिक, नहीं मेरी हाला,
    जगती के ठंडे प्याले सा पथिक, नहीं मेरा प्याला,
    ज्वाल सुरा जलते प्याले में दग्ध हृदय की कविता है,
    जलने से भयभीत न जो हो, आए मेरी मधुशाला।।१५।

    बहती हाला देखी, देखो लपट उठाती अब हाला,
    देखो प्याला अब छूते ही होंठ जला देनेवाला,
    'होंठ नहीं, सब देह दहे, पर पीने को दो बूंद मिले'
    ऐसे मधु के दीवानों को आज बुलाती मधुशाला।।१६।

    धर्मग्रन्थ सब जला चुकी है, जिसके अंतर की ज्वाला,
    मंदिर, मसजिद, गिरिजे, सब को तोड़ चुका जो मतवाला,
    पंडित, मोमिन, पादिरयों के फंदों को जो काट चुका,
    कर सकती है आज उसी का स्वागत मेरी मधुशाला।।१७।

    लालायित अधरों से जिसने, हाय, नहीं चूमी हाला,
    हर्ष-विकंपित कर से जिसने, हा, न छुआ मधु का प्याला,
    हाथ पकड़ लज्जित साकी को पास नहीं जिसने खींचा,
    व्यर्थ सुखा डाली जीवन की उसने मधुमय मधुशाला।।१८।

    बने पुजारी प्रेमी साकी, गंगाजल पावन हाला,
    रहे फेरता अविरत गति से मधु के प्यालों की माला'
    'और लिये जा, और पीये जा', इसी मंत्र का जाप करे'
    मैं शिव की प्रतिमा बन बैठूं, मंदिर हो यह मधुशाला।।१९।

    बजी न मंदिर में घड़ियाली, चढ़ी न प्रतिमा पर माला,
    बैठा अपने भवन मुअज्ज़िन देकर मस्जिद में ताला,
    लुटे ख़जाने नरपितयों के गिरीं गढ़ों की दीवारें,
    रहें मुबारक पीनेवाले, खुली रहे यह मधुशाला।।२०।

    बड़े बड़े पिरवार मिटें यों, एक न हो रोनेवाला,
    हो जाएँ सुनसान महल वे, जहाँ थिरकतीं सुरबाला,
    राज्य उलट जाएँ, भूपों की भाग्य सुलक्ष्मी सो जाए,
    जमे रहेंगे पीनेवाले, जगा करेगी मधुशाला।।२१।

    सब मिट जाएँ, बना रहेगा सुन्दर साकी, यम काला,
    सूखें सब रस, बने रहेंगे, किन्तु, हलाहल औ' हाला,
    धूमधाम औ' चहल पहल के स्थान सभी सुनसान बनें,
    झगा करेगा अविरत मरघट, जगा करेगी मधुशाला।।२२।

    भुरा सदा कहलायेगा जग में बाँका, मदचंचल प्याला,
    छैल छबीला, रसिया साकी, अलबेला पीनेवाला,
    पटे कहाँ से, मधु औ' जग की जोड़ी ठीक नहीं,
    जग जर्जर प्रतिदन, प्रतिक्षण, पर नित्य नवेली मधुशाला।।२३।

    बिना पिये जो मधुशाला को बुरा कहे, वह मतवाला,
    पी लेने पर तो उसके मुह पर पड़ जाएगा ताला,
    दास द्रोहियों दोनों में है जीत सुरा की, प्याले की,
    विश्वविजयिनी बनकर जग में आई मेरी मधुशाला।।२४।

    हरा भरा रहता मदिरालय, जग पर पड़ जाए पाला,
    वहाँ मुहर्रम का तम छाए, यहाँ होलिका की ज्वाला,
    स्वर्ग लोक से सीधी उतरी वसुधा पर, दुख क्या जाने,
    पढ़े मर्सिया दुनिया सारी, ईद मनाती मधुशाला।।२५।

    एक बरस में, एक बार ही जगती होली की ज्वाला,
    एक बार ही लगती बाज़ी, जलती दीपों की माला,
    दुनियावालों, किन्तु, किसी दिन आ मदिरालय में देखो,
    दिन को होली, रात दिवाली, रोज़ मनाती मधुशाला।।२६।

    नहीं जानता कौन, मनुज आया बनकर पीनेवाला,
    कौन अपिरिचत उस साकी से, जिसने दूध पिला पाला,
    जीवन पाकर मानव पीकर मस्त रहे, इस कारण ही,
    जग में आकर सबसे पहले पाई उसने मधुशाला।।२७।

    बनी रहें अंगूर लताएँ जिनसे मिलती है हाला,
    बनी रहे वह मिटटी जिससे बनता है मधु का प्याला,
    बनी रहे वह मदिर पिपासा तृप्त न जो होना जाने,
    बनें रहें ये पीने वाले, बनी रहे यह मधुशाला।।२८।

    सकुशल समझो मुझको, सकुशल रहती यदि साकीबाला,
    मंगल और अमंगल समझे मस्ती में क्या मतवाला,
    मित्रों, मेरी क्षेम न पूछो आकर, पर मधुशाला की,
    कहा करो 'जय राम' न मिलकर, कहा करो 'जय मधुशाला'।।२९।

    सूर्य बने मधु का विक्रेता, सिंधु बने घट, जल, हाला,
    बादल बन-बन आए साकी, भूमि बने मधु का प्याला,
    झड़ी लगाकर बरसे मदिरा रिमझिम, रिमझिम, रिमझिम कर,
    बेलि, विटप, तृण बन मैं पीऊँ, वर्षा ऋतु हो मधुशाला।।३०।

    तारक मणियों से सज्जित नभ बन जाए मधु का प्याला,
    सीधा करके भर दी जाए उसमें सागरजल हाला,
    मज्ञल्तऌा समीरण साकी बनकर अधरों पर छलका जाए,
    फैले हों जो सागर तट से विश्व बने यह मधुशाला।।३१।

    अधरों पर हो कोई भी रस जिहवा पर लगती हाला,
    भाजन हो कोई हाथों में लगता रक्खा है प्याला,
    हर सूरत साकी की सूरत में परिवर्तित हो जाती,
    आँखों के आगे हो कुछ भी, आँखों में है मधुशाला।।३२।

    पौधे आज बने हैं साकी ले ले फूलों का प्याला,
    भरी हुई है जिसके अंदर पिरमल-मधु-सुरिभत हाला,
    माँग माँगकर भ्रमरों के दल रस की मदिरा पीते हैं,
    झूम झपक मद-झंपित होते, उपवन क्या है मधुशाला!।३३।

    प्रति रसाल तरू साकी सा है, प्रति मंजरिका है प्याला,
    छलक रही है जिसके बाहर मादक सौरभ की हाला,
    छक जिसको मतवाली कोयल कूक रही डाली डाली
    हर मधुऋतु में अमराई में जग उठती है मधुशाला।।३४।

    मंद झकोरों के प्यालों में मधुऋतु सौरभ की हाला
    भर भरकर है अनिल पिलाता बनकर मधु-मद-मतवाला,
    हरे हरे नव पल्लव, तरूगण, नूतन डालें, वल्लरियाँ,
    छक छक, झुक झुक झूम रही हैं, मधुबन में है मधुशाला।।३५।

    साकी बन आती है प्रातः जब अरुणा ऊषा बाला,
    तारक-मणि-मंडित चादर दे मोल धरा लेती हाला,
    अगणित कर-किरणों से जिसको पी, खग पागल हो गाते,
    प्रति प्रभात में पूर्ण प्रकृति में मुखिरत होती मधुशाला।।३६।

    उतर नशा जब उसका जाता, आती है संध्या बाला,
    बड़ी पुरानी, बड़ी नशीली नित्य ढला जाती हाला,
    जीवन के संताप शोक सब इसको पीकर मिट जाते
    सुरा-सुप्त होते मद-लोभी जागृत रहती मधुशाला।।३७।

    अंधकार है मधुविक्रेता, सुन्दर साकी शशिबाला
    किरण किरण में जो छलकाती जाम जुम्हाई का हाला,
    पीकर जिसको चेतनता खो लेने लगते हैं झपकी
    तारकदल से पीनेवाले, रात नहीं है, मधुशाला।।३८।

    किसी ओर मैं आँखें फेरूँ, दिखलाई देती हाला
    किसी ओर मैं आँखें फेरूँ, दिखलाई देता प्याला,
    किसी ओर मैं देखूं, मुझको दिखलाई देता साकी
    किसी ओर देखूं, दिखलाई पड़ती मुझको मधुशाला।।३९।

    साकी बन मुरली आई साथ लिए कर में प्याला,
    जिनमें वह छलकाती लाई अधर-सुधा-रस की हाला,
    योगिराज कर संगत उसकी नटवर नागर कहलाए,
    देखो कैसों-कैसों को है नाच नचाती मधुशाला।।४०।

    वादक बन मधु का विक्रेता लाया सुर-सुमधुर-हाला,
    रागिनियाँ बन साकी आई भरकर तारों का प्याला,
    विक्रेता के संकेतों पर दौड़ लयों, आलापों में,
    पान कराती श्रोतागण को, झंकृत वीणा मधुशाला।।४१।

    चित्रकार बन साकी आता लेकर तूली का प्याला,
    जिसमें भरकर पान कराता वह बहु रस-रंगी हाला,
    मन के चित्र जिसे पी-पीकर रंग-बिरंगे हो जाते,
    चित्रपटी पर नाच रही है एक मनोहर मधुशाला।।४२।

    घन श्यामल अंगूर लता से खिंच खिंच यह आती हाला,
    अरूण-कमल-कोमल कलियों की प्याली, फूलों का प्याला,
    लोल हिलोरें साकी बन बन माणिक मधु से भर जातीं,
    हंस मज्ञल्तऌा होते पी पीकर मानसरोवर मधुशाला।।४३।

    हिम श्रेणी अंगूर लता-सी फैली, हिम जल है हाला,
    चंचल नदियाँ साकी बनकर, भरकर लहरों का प्याला,
    कोमल कूर-करों में अपने छलकाती निशिदिन चलतीं,
    पीकर खेत खड़े लहराते, भारत पावन मधुशाला।।४४।

    धीर सुतों के हृदय रक्त की आज बना रक्तिम हाला,
    वीर सुतों के वर शीशों का हाथों में लेकर प्याला,
    अति उदार दानी साकी है आज बनी भारतमाता,
    स्वतंत्रता है तृषित कालिका बलिवेदी है मधुशाला।।४५।

    दुतकारा मस्जिद ने मुझको कहकर है पीनेवाला,
    ठुकराया ठाकुरद्वारे ने देख हथेली पर प्याला,
    कहाँ ठिकाना मिलता जग में भला अभागे काफिर को?
    शरणस्थल बनकर न मुझे यदि अपना लेती मधुशाला।।४६।

    पथिक बना मैं घूम रहा हूँ, सभी जगह मिलती हाला,
    सभी जगह मिल जाता साकी, सभी जगह मिलता प्याला,
    मुझे ठहरने का, हे मित्रों, कष्ट नहीं कुछ भी होता,
    मिले न मंदिर, मिले न मस्जिद, मिल जाती है मधुशाला।।४७।

    सजें न मस्जिद और नमाज़ी कहता है अल्लाताला,
    सजधजकर, पर, साकी आता, बन ठनकर, पीनेवाला,
    शेख, कहाँ तुलना हो सकती मस्जिद की मदिरालय से
    चिर विधवा है मस्जिद तेरी, सदा सुहागिन मधुशाला।।४८।

    बजी नफ़ीरी और नमाज़ी भूल गया अल्लाताला,
    गाज गिरी, पर ध्यान सुरा में मग्न रहा पीनेवाला,
    शेख, बुरा मत मानो इसको, साफ़ कहूँ तो मस्जिद को
    अभी युगों तक सिखलाएगी ध्यान लगाना मधुशाला!।४९।

    मुसलमान औ' हिन्दू है दो, एक, मगर, उनका प्याला,
    एक, मगर, उनका मदिरालय, एक, मगर, उनकी हाला,
    दोनों रहते एक न जब तक मस्जिद मन्दिर में जाते,
    बैर बढ़ाते मस्जिद मन्दिर मेल कराती मधुशाला!।५०।

    कोई भी हो शेख नमाज़ी या पंडित जपता माला,
    बैर भाव चाहे जितना हो मदिरा से रखनेवाला,
    एक बार बस मधुशाला के आगे से होकर निकले,
    देखूँ कैसे थाम न लेती दामन उसका मधुशाला!।५१।

    और रसों में स्वाद तभी तक, दूर जभी तक है हाला,
    इतरा लें सब पात्र न जब तक, आगे आता है प्याला,
    कर लें पूजा शेख, पुजारी तब तक मस्जिद मन्दिर में
    घूँघट का पट खोल न जब तक झाँक रही है मधुशाला।।५२।

    आज करे परहेज़ जगत, पर, कल पीनी होगी हाला,
    आज करे इन्कार जगत पर कल पीना होगा प्याला,
    होने दो पैदा मद का महमूद जगत में कोई, फिर
    जहाँ अभी हैं मन्िदर मस्जिद वहाँ बनेगी मधुशाला।।५३।

    यज्ञ अग्नि सी धधक रही है मधु की भटठी की ज्वाला,
    ऋषि सा ध्यान लगा बैठा है हर मदिरा पीने वाला,
    मुनि कन्याओं सी मधुघट ले फिरतीं साकीबालाएँ,
    किसी तपोवन से क्या कम है मेरी पावन मधुशाला।।५४।

    सोम सुरा पुरखे पीते थे, हम कहते उसको हाला,
    द्रोणकलश जिसको कहते थे, आज वही मधुघट आला,
    वेदिवहित यह रस्म न छोड़ो वेदों के ठेकेदारों,
    युग युग से है पुजती आई नई नहीं है मधुशाला।।५५।

    वही वारूणी जो थी सागर मथकर निकली अब हाला,
    रंभा की संतान जगत में कहलाती 'साकीबाला',
    देव अदेव जिसे ले आए, संत महंत मिटा देंगे!
    किसमें कितना दम खम, इसको खूब समझती मधुशाला।।५६।

    कभी न सुन पड़ता, 'इसने, हा, छू दी मेरी हाला',
    कभी न कोई कहता, 'उसने जूठा कर डाला प्याला',
    सभी जाति के लोग यहाँ पर साथ बैठकर पीते हैं,
    सौ सुधारकों का करती है काम अकेले मधुशाला।।५७।

    श्रम, संकट, संताप, सभी तुम भूला करते पी हाला,
    सबक बड़ा तुम सीख चुके यदि सीखा रहना मतवाला,
    व्यर्थ बने जाते हो हिरजन, तुम तो मधुजन ही अच्छे,
    ठुकराते हिर मंिदरवाले, पलक बिछाती मधुशाला।।५८।

    एक तरह से सबका स्वागत करती है साकीबाला,
    अज्ञ विज्ञ में है क्या अंतर हो जाने पर मतवाला,
    रंक राव में भेद हुआ है कभी नहीं मदिरालय में,
    साम्यवाद की प्रथम प्रचारक है यह मेरी मधुशाला।।५९।

    बार बार मैंने आगे बढ़ आज नहीं माँगी हाला,
    समझ न लेना इससे मुझको साधारण पीने वाला,
    हो तो लेने दो ऐ साकी दूर प्रथम संकोचों को,
    मेरे ही स्वर से फिर सारी गूँज उठेगी मधुशाला।।६०।

    कल? कल पर विश्वास किया कब करता है पीनेवाला
    हो सकते कल कर जड़ जिनसे फिर फिर आज उठा प्याला,
    आज हाथ में था, वह खोया, कल का कौन भरोसा है,
    कल की हो न मुझे मधुशाला काल कुटिल की मधुशाला।।६१।

    आज मिला अवसर, तब फिर क्यों मैं न छकूँ जी-भर हाला
    आज मिला मौका, तब फिर क्यों ढाल न लूँ जी-भर प्याला,
    छेड़छाड़ अपने साकी से आज न क्यों जी-भर कर लूँ,
    एक बार ही तो मिलनी है जीवन की यह मधुशाला।।६२।

    आज सजीव बना लो, प्रेयसी, अपने अधरों का प्याला,
    भर लो, भर लो, भर लो इसमें, यौवन मधुरस की हाला,
    और लगा मेरे होठों से भूल हटाना तुम जाओ,
    अथक बनू मैं पीनेवाला, खुले प्रणय की मधुशाला।।६३।

    सुमुखी तुम्हारा, सुन्दर मुख ही, मुझको कन्चन का प्याला
    छलक रही है जिसमंे माणिक रूप मधुर मादक हाला,
    मैं ही साकी बनता, मैं ही पीने वाला बनता हूँ
    जहाँ कहीं मिल बैठे हम तुम़ वहीं गयी हो मधुशाला।।६४।

    दो दिन ही मधु मुझे पिलाकर ऊब उठी साकीबाला,
    भरकर अब खिसका देती है वह मेरे आगे प्याला,
    नाज़, अदा, अंदाजों से अब, हाय पिलाना दूर हुआ,
    अब तो कर देती है केवल फ़र्ज़ -अदाई मधुशाला।।६५।

    छोटे-से जीवन में कितना प्यार करुँ, पी लूँ हाला,
    आने के ही साथ जगत में कहलाया 'जानेवाला',
    स्वागत के ही साथ विदा की होती देखी तैयारी,
    बंद लगी होने खुलते ही मेरी जीवन-मधुशाला।।६६।

    क्या पीना, निर्द्वन्द न जब तक ढाला प्यालों पर प्याला,
    क्या जीना, निरंिचत न जब तक साथ रहे साकीबाला,
    खोने का भय, हाय, लगा है पाने के सुख के पीछे,
    मिलने का आनंद न देती मिलकर के भी मधुशाला।।६७।

    मुझे पिलाने को लाए हो इतनी थोड़ी-सी हाला!
    मुझे दिखाने को लाए हो एक यही छिछला प्याला!
    इतनी पी जीने से अच्छा सागर की ले प्यास मरुँ,
    सिंधँु-तृषा दी किसने रचकर बिंदु-बराबर मधुशाला।।६८।

    क्या कहता है, रह न गई अब तेरे भाजन में हाला,
    क्या कहता है, अब न चलेगी मादक प्यालों की माला,
    थोड़ी पीकर प्यास बढ़ी तो शेष नहीं कुछ पीने को,
    प्यास बुझाने को बुलवाकर प्यास बढ़ाती मधुशाला।।६९।

    लिखी भाग्य में जितनी बस उतनी ही पाएगा हाला,
    लिखा भाग्य में जैसा बस वैसा ही पाएगा प्याला,
    लाख पटक तू हाथ पाँव, पर इससे कब कुछ होने का,
    लिखी भाग्य में जो तेरे बस वही मिलेगी मधुशाला।।७०।

    कर ले, कर ले कंजूसी तू मुझको देने में हाला,
    दे ले, दे ले तू मुझको बस यह टूटा फूटा प्याला,
    मैं तो सब्र इसी पर करता, तू पीछे पछताएगी,
    जब न रहूँगा मैं, तब मेरी याद करेगी मधुशाला।।७१।

    ध्यान मान का, अपमानों का छोड़ दिया जब पी हाला,
    गौरव भूला, आया कर में जब से मिट्टी का प्याला,
    साकी की अंदाज़ भरी झिड़की में क्या अपमान धरा,
    दुनिया भर की ठोकर खाकर पाई मैंने मधुशाला।।७२।

    क्षीण, क्षुद्र, क्षणभंगुर, दुर्बल मानव मिटटी का प्याला,
    भरी हुई है जिसके अंदर कटु-मधु जीवन की हाला,
    मृत्यु बनी है निर्दय साकी अपने शत-शत कर फैला,
    काल प्रबल है पीनेवाला, संसृति है यह मधुशाला।।७३।

    प्याले सा गढ़ हमें किसी ने भर दी जीवन की हाला,
    नशा न भाया, ढाला हमने ले लेकर मधु का प्याला,
    जब जीवन का दर्द उभरता उसे दबाते प्याले से,
    जगती के पहले साकी से जूझ रही है मधुशाला।।७४।

    अपने अंगूरों से तन में हमने भर ली है हाला,
    क्या कहते हो, शेख, नरक में हमें तपाएगी ज्वाला,
    तब तो मदिरा खूब खिंचेगी और पिएगा भी कोई,
    हमें नमक की ज्वाला में भी दीख पड़ेगी मधुशाला।।७५।

    यम आएगा लेने जब, तब खूब चलूँगा पी हाला,
    पीड़ा, संकट, कष्ट नरक के क्या समझेगा मतवाला,
    क्रूर, कठोर, कुटिल, कुविचारी, अन्यायी यमराजों के
    डंडों की जब मार पड़ेगी, आड़ करेगी मधुशाला।।७६।

    यदि इन अधरों से दो बातें प्रेम भरी करती हाला,
    यदि इन खाली हाथों का जी पल भर बहलाता प्याला,
    हानि बता, जग, तेरी क्या है, व्यर्थ मुझे बदनाम न कर,
    मेरे टूटे दिल का है बस एक खिलौना मधुशाला।।७७।

    याद न आए दूखमय जीवन इससे पी लेता हाला,
    जग चिंताओं से रहने को मुक्त, उठा लेता प्याला,
    शौक, साध के और स्वाद के हेतु पिया जग करता है,
    पर मै वह रोगी हूँ जिसकी एक दवा है मधुशाला।।७८।

    गिरती जाती है दिन प्रतिदन प्रणयनी प्राणों की हाला
    भग्न हुआ जाता दिन प्रतिदन सुभगे मेरा तन प्याला,
    रूठ रहा है मुझसे रूपसी, दिन दिन यौवन का साकी
    सूख रही है दिन दिन सुन्दरी, मेरी जीवन मधुशाला।।७९।

    यम आयेगा साकी बनकर साथ लिए काली हाला,
    पी न होश में फिर आएगा सुरा-विसुध यह मतवाला,
    यह अंितम बेहोशी, अंतिम साकी, अंतिम प्याला है,
    पथिक, प्यार से पीना इसको फिर न मिलेगी मधुशाला।८०।

    ढलक रही है तन के घट से, संगिनी जब जीवन हाला
    पत्र गरल का ले जब अंतिम साकी है आनेवाला,
    हाथ स्पर्श भूले प्याले का, स्वाद सुरा जीव्हा भूले
    कानो में तुम कहती रहना, मधु का प्याला मधुशाला।।८१।

    मेरे अधरों पर हो अंितम वस्तु न तुलसीदल प्याला
    मेरी जीव्हा पर हो अंतिम वस्तु न गंगाजल हाला,
    मेरे शव के पीछे चलने वालों याद इसे रखना
    राम नाम है सत्य न कहना, कहना सच्ची मधुशाला।।८२।

    मेरे शव पर वह रोये, हो जिसके आंसू में हाला
    आह भरे वो, जो हो सुरिभत मदिरा पी कर मतवाला,
    दे मुझको वो कान्धा जिनके पग मद डगमग होते हों
    और जलूं उस ठौर जहां पर कभी रही हो मधुशाला।।८३।

    और चिता पर जाये उंढेला पत्र न घ्रित का, पर प्याला
    कंठ बंधे अंगूर लता में मध्य न जल हो, पर हाला,
    प्राण प्रिये यदि श्राध करो तुम मेरा तो ऐसे करना
    पीने वालांे को बुलवा कऱ खुलवा देना मधुशाला।।८४।

    नाम अगर कोई पूछे तो, कहना बस पीनेवाला
    काम ढालना, और ढालना सबको मदिरा का प्याला,
    जाति प्रिये, पूछे यदि कोई कह देना दीवानों की
    धर्म बताना प्यालों की ले माला जपना मधुशाला।।८५।

    ज्ञात हुआ यम आने को है ले अपनी काली हाला,
    पंिडत अपनी पोथी भूला, साधू भूल गया माला,
    और पुजारी भूला पूजा, ज्ञान सभी ज्ञानी भूला,
    किन्तु न भूला मरकर के भी पीनेवाला मधुशाला।।८६।

    यम ले चलता है मुझको तो, चलने दे लेकर हाला,
    चलने दे साकी को मेरे साथ लिए कर में प्याला,
    स्वर्ग, नरक या जहाँ कहीं भी तेरा जी हो लेकर चल,
    ठौर सभी हैं एक तरह के साथ रहे यदि मधुशाला।।८७।

    पाप अगर पीना, समदोषी तो तीनों - साकी बाला,
    नित्य पिलानेवाला प्याला, पी जानेवाली हाला,
    साथ इन्हें भी ले चल मेरे न्याय यही बतलाता है,
    कैद जहाँ मैं हूँ, की जाए कैद वहीं पर मधुशाला।।८८।

    शांत सकी हो अब तक, साकी, पीकर किस उर की ज्वाला,
    'और, और' की रटन लगाता जाता हर पीनेवाला,
    कितनी इच्छाएँ हर जानेवाला छोड़ यहाँ जाता!
    कितने अरमानों की बनकर कब्र खड़ी है मधुशाला।।८९।

    जो हाला मैं चाह रहा था, वह न मिली मुझको हाला,
    जो प्याला मैं माँग रहा था, वह न मिला मुझको प्याला,
    जिस साकी के पीछे मैं था दीवाना, न मिला साकी,
    जिसके पीछे था मैं पागल, हा न मिली वह मधुशाला!।९०।

    देख रहा हूँ अपने आगे कब से माणिक-सी हाला,
    देख रहा हूँ अपने आगे कब से कंचन का प्याला,
    'बस अब पाया!'- कह-कह कब से दौड़ रहा इसके पीछे,
    किंतु रही है दूर क्षितिज-सी मुझसे मेरी मधुशाला।।९१।

    कभी निराशा का तम घिरता, छिप जाता मधु का प्याला,
    छिप जाती मदिरा की आभा, छिप जाती साकीबाला,
    कभी उजाला आशा करके प्याला फिर चमका जाती,
    आँखिमचौली खेल रही है मुझसे मेरी मधुशाला।।९२।

    'आ आगे' कहकर कर पीछे कर लेती साकीबाला,
    होंठ लगाने को कहकर हर बार हटा लेती प्याला,
    नहीं मुझे मालूम कहाँ तक यह मुझको ले जाएगी,
    बढ़ा बढ़ाकर मुझको आगे, पीछे हटती मधुशाला।।९३।

    हाथों में आने-आने में, हाय, फिसल जाता प्याला,
    अधरों पर आने-आने में हाय, ढुलक जाती हाला,
    दुनियावालो, आकर मेरी किस्मत की ख़ूबी देखो,
    रह-रह जाती है बस मुझको मिलते-िमलते मधुशाला।।९४।

    प्राप्य नही है तो, हो जाती लुप्त नहीं फिर क्यों हाला,
    प्राप्य नही है तो, हो जाता लुप्त नहीं फिर क्यों प्याला,
    दूर न इतनी हिम्मत हारुँ, पास न इतनी पा जाऊँ,
    व्यर्थ मुझे दौड़ाती मरु में मृगजल बनकर मधुशाला।।९५।

    मिले न, पर, ललचा ललचा क्यों आकुल करती है हाला,
    मिले न, पर, तरसा तरसाकर क्यों तड़पाता है प्याला,
    हाय, नियति की विषम लेखनी मस्तक पर यह खोद गई
    'दूर रहेगी मधु की धारा, पास रहेगी मधुशाला!'।९६।

    मदिरालय में कब से बैठा, पी न सका अब तक हाला,
    यत्न सहित भरता हूँ, कोई किंतु उलट देता प्याला,
    मानव-बल के आगे निर्बल भाग्य, सुना विद्यालय में,
    'भाग्य प्रबल, मानव निर्बल' का पाठ पढ़ाती मधुशाला।।९७।

    किस्मत में था खाली खप्पर, खोज रहा था मैं प्याला,
    ढूँढ़ रहा था मैं मृगनयनी, किस्मत में थी मृगछाला,
    किसने अपना भाग्य समझने में मुझसा धोखा खाया,
    किस्मत में था अवघट मरघट, ढूँढ़ रहा था मधुशाला।।९८।

    उस प्याले से प्यार मुझे जो दूर हथेली से प्याला,
    उस हाला से चाव मुझे जो दूर अधर से है हाला,
    प्यार नहीं पा जाने में है, पाने के अरमानों में!
    पा जाता तब, हाय, न इतनी प्यारी लगती मधुशाला।।९९।

    साकी के पास है तिनक सी श्री, सुख, संपित की हाला,
    सब जग है पीने को आतुर ले ले किस्मत का प्याला,
    रेल ठेल कुछ आगे बढ़ते, बहुतेरे दबकर मरते,
    जीवन का संघर्ष नहीं है, भीड़ भरी है मधुशाला।।१००।

    साकी, जब है पास तुम्हारे इतनी थोड़ी सी हाला,
    क्यों पीने की अभिलषा से, करते सबको मतवाला,
    हम पिस पिसकर मरते हैं, तुम छिप छिपकर मुसकाते हो,
    हाय, हमारी पीड़ा से है क्रीड़ा करती मधुशाला।।१०१।

    साकी, मर खपकर यदि कोई आगे कर पाया प्याला,
    पी पाया केवल दो बूंदों से न अधिक तेरी हाला,
    जीवन भर का, हाय, पिरश्रम लूट लिया दो बूंदों ने,
    भोले मानव को ठगने के हेतु बनी है मधुशाला।।१०२।

    जिसने मुझको प्यासा रक्खा बनी रहे वह भी हाला,
    जिसने जीवन भर दौड़ाया बना रहे वह भी प्याला,
    मतवालों की जिहवा से हैं कभी निकलते शाप नहीं,
    दुखी बनाय जिसने मुझको सुखी रहे वह मधुशाला!।१०३।

    नहीं चाहता, आगे बढ़कर छीनूँ औरों की हाला,
    नहीं चाहता, धक्के देकर, छीनूँ औरों का प्याला,
    साकी, मेरी ओर न देखो मुझको तिनक मलाल नहीं,
    इतना ही क्या कम आँखों से देख रहा हूँ मधुशाला।।१०४।

    मद, मदिरा, मधु, हाला सुन-सुन कर ही जब हूँ मतवाला,
    क्या गति होगी अधरों के जब नीचे आएगा प्याला,
    साकी, मेरे पास न आना मैं पागल हो जाऊँगा,
    प्यासा ही मैं मस्त, मुबारक हो तुमको ही मधुशाला।।१०५।

    क्या मुझको आवश्यकता है साकी से माँगूँ हाला,
    क्या मुझको आवश्यकता है साकी से चाहूँ प्याला,
    पीकर मदिरा मस्त हुआ तो प्यार किया क्या मदिरा से!
    मैं तो पागल हो उठता हूँ सुन लेता यदि मधुशाला।।१०६।

    देने को जो मुझे कहा था दे न सकी मुझको हाला,
    देने को जो मुझे कहा था दे न सका मुझको प्याला,
    समझ मनुज की दुर्बलता मैं कहा नहीं कुछ भी करता,
    किन्तु स्वयं ही देख मुझे अब शरमा जाती मधुशाला।।१०७।

    एक समय संतुष्ट बहुत था पा मैं थोड़ी-सी हाला,
    भोला-सा था मेरा साकी, छोटा-सा मेरा प्याला,
    छोटे-से इस जग की मेरे स्वर्ग बलाएँ लेता था,
    विस्तृत जग में, हाय, गई खो मेरी नन्ही मधुशाला!।१०८।

    बहुतेरे मदिरालय देखे, बहुतेरी देखी हाला,
    भाँित भाँित का आया मेरे हाथों में मधु का प्याला,
    एक एक से बढ़कर, सुन्दर साकी ने सत्कार किया,
    जँची न आँखों में, पर, कोई पहली जैसी मधुशाला।।१०९।

    एक समय छलका करती थी मेरे अधरों पर हाला,
    एक समय झूमा करता था मेरे हाथों पर प्याला,
    एक समय पीनेवाले, साकी आलिंगन करते थे,
    आज बनी हूँ निर्जन मरघट, एक समय थी मधुशाला।।११०।

    जला हृदय की भट्टी खींची मैंने आँसू की हाला,
    छलछल छलका करता इससे पल पल पलकों का प्याला,
    आँखें आज बनी हैं साकी, गाल गुलाबी पी होते,
    कहो न विरही मुझको, मैं हूँ चलती फिरती मधुशाला!।१११।

    कितनी जल्दी रंग बदलती है अपना चंचल हाला,
    कितनी जल्दी घिसने लगता हाथों में आकर प्याला,
    कितनी जल्दी साकी का आकर्षण घटने लगता है,
    प्रात नहीं थी वैसी, जैसी रात लगी थी मधुशाला।।११२।

    बूँद बूँद के हेतु कभी तुझको तरसाएगी हाला,
    कभी हाथ से छिन जाएगा तेरा यह मादक प्याला,
    पीनेवाले, साकी की मीठी बातों में मत आना,
    मेरे भी गुण यों ही गाती एक दिवस थी मधुशाला।।११३।

    छोड़ा मैंने पथ मतों को तब कहलाया मतवाला,
    चली सुरा मेरा पग धोने तोड़ा जब मैंने प्याला,
    अब मानी मधुशाला मेरे पीछे पीछे फिरती है,
    क्या कारण? अब छोड़ दिया है मैंने जाना मधुशाला।।११४।

    यह न समझना, पिया हलाहल मैंने, जब न मिली हाला,
    तब मैंने खप्पर अपनाया ले सकता था जब प्याला,
    जले हृदय को और जलाना सूझा, मैंने मरघट को
    अपनाया जब इन चरणों में लोट रही थी मधुशाला।।११५।

    कितनी आई और गई पी इस मदिरालय में हाला,
    टूट चुकी अब तक कितने ही मादक प्यालों की माला,
    कितने साकी अपना अपना काम खतम कर दूर गए,
    कितने पीनेवाले आए, किन्तु वही है मधुशाला।।११६।

    कितने होठों को रक्खेगी याद भला मादक हाला,
    कितने हाथों को रक्खेगा याद भला पागल प्याला,
    कितनी शक्लों को रक्खेगा याद भला भोला साकी,
    कितने पीनेवालों में है एक अकेली मधुशाला।।११७।

    दर दर घूम रहा था जब मैं चिल्लाता - हाला! हाला!
    मुझे न मिलता था मदिरालय, मुझे न मिलता था प्याला,
    मिलन हुआ, पर नहीं मिलनसुख लिखा हुआ था किस्मत में,
    मैं अब जमकर बैठ गया हँू, घूम रही है मधुशाला।।११८।

    मैं मदिरालय के अंदर हूँ, मेरे हाथों में प्याला,
    प्याले में मदिरालय बिंिबत करनेवाली है हाला,
    इस उधेड़-बुन में ही मेरा सारा जीवन बीत गया -
    मैं मधुशाला के अंदर या मेरे अंदर मधुशाला!।११९।

    किसे नहीं पीने से नाता, किसे नहीं भाता प्याला,
    इस जगती के मदिरालय में तरह-तरह की है हाला,
    अपनी-अपनी इच्छा के अनुसार सभी पी मदमाते,
    एक सभी का मादक साकी, एक सभी की मधुशाला।।१२०।

    वह हाला, कर शांत सके जो मेरे अंतर की ज्वाला,
    जिसमें मैं बिंिबत-प्रतिबंिबत प्रतिपल, वह मेरा प्याला,
    मधुशाला वह नहीं जहाँ पर मदिरा बेची जाती है,
    भेंट जहाँ मस्ती की मिलती मेरी तो वह मधुशाला।।१२१।

    मतवालापन हाला से ले मैंने तज दी है हाला,
    पागलपन लेकर प्याले से, मैंने त्याग दिया प्याला,
    साकी से मिल, साकी में मिल अपनापन मैं भूल गया,
    मिल मधुशाला की मधुता में भूल गया मैं मधुशाला।।१२२।

    मदिरालय के द्वार ठोंकता किस्मत का छंछा प्याला,
    गहरी, ठंडी सांसें भर भर कहता था हर मतवाला,
    कितनी थोड़ी सी यौवन की हाला, हा, मैं पी पाया!
    बंद हो गई कितनी जल्दी मेरी जीवन मधुशाला।।१२३।

    कहाँ गया वह स्वर्गिक साकी, कहाँ गयी सुरिभत हाला,
    कहँा गया स्वपिनल मदिरालय, कहाँ गया स्वर्णिम प्याला!
    पीनेवालों ने मदिरा का मूल्य, हाय, कब पहचाना?
    फूट चुका जब मधु का प्याला, टूट चुकी जब मधुशाला।।१२४।

    अपने युग में सबको अनुपम ज्ञात हुई अपनी हाला,
    अपने युग में सबको अदभुत ज्ञात हुआ अपना प्याला,
    फिर भी वृद्धों से जब पूछा एक यही उज्ञल्तऌार पाया -
    अब न रहे वे पीनेवाले, अब न रही वह मधुशाला!।१२५।

    'मय' को करके शुद्ध दिया अब नाम गया उसको, 'हाला'
    'मीना' को 'मधुपात्र' दिया 'सागर' को नाम गया 'प्याला',
    क्यों न मौलवी चौंकें, बिचकें तिलक-त्रिपुंडी पंिडत जी
    'मय-महिफल' अब अपना ली है मैंने करके 'मधुशाला'।।१२६।

    कितने मर्म जता जाती है बार-बार आकर हाला,
    कितने भेद बता जाता है बार-बार आकर प्याला,
    कितने अर्थों को संकेतों से बतला जाता साकी,
    फिर भी पीनेवालों को है एक पहेली मधुशाला।।१२७।

    जितनी दिल की गहराई हो उतना गहरा है प्याला,
    जितनी मन की मादकता हो उतनी मादक है हाला,
    जितनी उर की भावुकता हो उतना सुन्दर साकी है,
    जितना ही जो रिसक, उसे है उतनी रसमय मधुशाला।।१२८।

    जिन अधरों को छुए, बना दे मस्त उन्हें मेरी हाला,
    जिस कर को छूू दे, कर दे विक्षिप्त उसे मेरा प्याला,
    आँख चार हों जिसकी मेरे साकी से दीवाना हो,
    पागल बनकर नाचे वह जो आए मेरी मधुशाला।।१२९।

    हर जिहवा पर देखी जाएगी मेरी मादक हाला
    हर कर में देखा जाएगा मेरे साकी का प्याला
    हर घर में चर्चा अब होगी मेरे मधुविक्रेता की
    हर आंगन में गमक उठेगी मेरी सुरिभत मधुशाला।।१३०।

    मेरी हाला में सबने पाई अपनी-अपनी हाला,
    मेरे प्याले में सबने पाया अपना-अपना प्याला,
    मेरे साकी में सबने अपना प्यारा साकी देखा,
    जिसकी जैसी रुिच थी उसने वैसी देखी मधुशाला।।१३१।

    यह मदिरालय के आँसू हैं, नहीं-नहीं मादक हाला,
    यह मदिरालय की आँखें हैं, नहीं-नहीं मधु का प्याला,
    किसी समय की सुखदस्मृति है साकी बनकर नाच रही,
    नहीं-नहीं किव का हृदयांगण, यह विरहाकुल मधुशाला।।१३२।

    कुचल हसरतें कितनी अपनी, हाय, बना पाया हाला,
    कितने अरमानों को करके ख़ाक बना पाया प्याला!
    पी पीनेवाले चल देंगे, हाय, न कोई जानेगा,
    कितने मन के महल ढहे तब खड़ी हुई यह मधुशाला!।१३३।

    विश्व तुम्हारे विषमय जीवन में ला पाएगी हाला
    यदि थोड़ी-सी भी यह मेरी मदमाती साकीबाला,
    शून्य तुम्हारी घड़ियाँ कुछ भी यदि यह गुंजित कर पाई,
    जन्म सफल समझेगी जग में अपना मेरी मधुशाला।।१३४।

    बड़े-बड़े नाज़ों से मैंने पाली है साकीबाला,
    किलत कल्पना का ही इसने सदा उठाया है प्याला,
    मान-दुलारों से ही रखना इस मेरी सुकुमारी को,
    विश्व, तुम्हारे हाथों में अब सौंप रहा हूँ मधुशाला।।१३५।

    पिरिशष्ट से

    स्वयं नहीं पीता, औरों को, किन्तु पिला देता हाला,
    स्वयं नहीं छूता, औरों को, पर पकड़ा देता प्याला,
    पर उपदेश कुशल बहुतेरों से मैंने यह सीखा है,
    स्वयं नहीं जाता, औरों को पहुंचा देता मधुशाला।

    मैं कायस्थ कुलोदभव मेरे पुरखों ने इतना ढ़ाला,
    मेरे तन के लोहू में है पचहज्ञल्तऌार प्रतिशत हाला,
    पुश्तैनी अधिकार मुझे है मदिरालय के आँगन पर,
    मेरे दादों परदादों के हाथ बिकी थी मधुशाला।

    बहुतों के सिर चार दिनों तक चढ़कर उतर गई हाला,
    बहुतों के हाथों में दो दिन छलक झलक रीता प्याला,
    पर बढ़ती तासीर सुरा की साथ समय के, इससे ही
    और पुरानी होकर मेरी और नशीली मधुशाला।

    पित्र पक्ष में पुत्र उठाना अर्ध्य न कर में, पर प्याला
    बैठ कहीं पर जाना, गंगा सागर में भरकर हाला
    किसी जगह की मिटटी भीगे, तृप्ति मुझे मिल जाएगी
    तर्पण अर्पण करना मुझको, पढ़ पढ़ कर के मधुशाला।
  • Anonymous
    13 Jun 11
    NICE POEM BUT ITS REALLY LONG!!! YOU COULD'VE GIVEN A SHORTER POEM!!
  • manisha agarwal
    23 Feb 11
    sir.I want to thank u for reminding me that i still love and value my mother tongue.
  • Imran
    29 Jan 11
    its a awsome site i hav ever seen it remind me of my school days.

    bahut bahut shukrya aapka..
  • Anonymous
    17 Jan 11
    this is worst site........................................ nover ever go 4 it......................................................................................bloodyfool.......................................
  • Anonymous
    08 Jan 11
    site banane vala pagal he
  • Obaid Ahmad
    01 Jan 11
    As far as the contained matter is concerned, this site is awsome. But, a bigger store of poems would have been much more appreciated.
  • Ashutosh
    20 Dec 10
    i am so happy..i have been in the search of all these poems from last couple of years.. thanks for providing it at a single plateform..kep it up good work
  • DEEPMAAN
    08 Dec 10
    really awsome website!!
    humein apne desh ki famous poems jo ek jagah milti hai............
  • Anonymous
    20 Nov 10
    WANT TO GET SOME SHORT HINDI POEMS & ANYWAY THE BEST SITE
  • Gauri
    14 Nov 10
    these are bloody poems
  • PANKAJ KUMAR
    11 Nov 10
    Thanks to the team who has done great job of Kavyguch. Request if Sh Ramprasad Bismil's - Kitane hi katutam kante tum mere path par aaj bichha do- may also be displayed on this page.

    Bahut bahut dhanyawad for utkrasht kary.
  • Anonymous
    04 Nov 10
    MATERIAL HERE IN THIS SITE IS NOT TOO MUCH SATISFACTIONABLE
  • Rahul Patil
    29 Oct 10
    Really good collection..... awesome .... rewinds school days...
  • Vishal Kesarwani
    21 Oct 10
    ek baar phir se man ko taro taza kar diya ..............wow .....its a incredible and memorable lines .........
  • Anonymous
    20 Oct 10
    quite useful !!!!!!
    thnx
  • vanshika arora
    04 Oct 10
    outstanding poems ! i cant choose 1!
    vvvvvvvvvvveeeeeeeeeeerrrrrrrrrrrrrrrrrrrrrryyyyyyyyyyy nnnnnnnnniiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiccccccccccccccccccceeeeeeeee
    poems!
  • Sajid Maniyar
    20 Sep 10
    This site instill in us the love for our national language.
  • PREETHAM
    08 Sep 10
    ON OF THE GREAT JOB TO MAN KIND
  • achla
    25 Aug 10
    a very good rather excellent site for hindi poems. i really appreciate the contents.
  • Asha
    15 Aug 10
    These poems r d best and most meaningful writings.
  • Rohan Bhatt
    11 Aug 10
    Thank you for these invaluable pearls that add enrichment to our lives.
  • Anonymous
    04 Aug 10
    awesome site for the hindi poems
  • Saurabh
    27 Jun 10
    this is a nice and good website........
  • nidhi
    21 Jun 10
    todays generation need to know the landmarks of hindi literature.
    somewhere the bond is getting loose,
    need IS to tie it up again.......
  • Kanupriya
    07 Jun 10
    really great job...keep it up...
    very useful 2 all of us..good choices n great collection.....
    my wishes always.....

    plzz add amrita pritam's waris shah also....
  • vivekanand mukerjee
    05 May 10
    एक ही पृष्‍ठ पर नामी-गिरामी कवियों की रचनाऍं उपलब्‍ध करा कर आपने भारतीय साहित्‍य को बचाए रखने का उत्‍तम सार्थक प्रयास किया है ।

    धन्‍यवाद
    vivekanand
  • Anonymous
    08 Feb 10
    आशाएं जोड़ती है हमें ,

    आशाएं खुले आसमान के नीचे मदमस्त हो भींगने की,
    आशाएं जागने की एक खाट पर तारों को ओझल होते देख,
    बहते पहाड़ी झरने में नहाने की , आशाएं नये पुल बनाने की !
    आशाएं खुलते छोटे हाथों को हाथ दे, गोद में उठाने की,
    आशाएं सुनी सुनाई कहानी नाती पोतों को सुनाने की ,

    आशाएं जोड़ती है हमें !

    आशाएं बहते दरिया से सरहद पार जाने की,
    आशाएं मंदिरों मज्ज़िदों के बीच के द्वार को चूम कर आने की ,
    कभी- कभी दरखतों के बीच जाकर गुम जाने की,
    आशाएं पहचान से पहले इंसान के लिए मुस्कुराने की........

    आशाएं जोड़ती है हमें !
  • Anonymous
    16 Jan 10
    I was searching for some poems today and must say this site has a really good collection.
    Though I didnt find the one that I was looking for but it's got a handful to keep me occupied
  • Sanjay Maru
    01 Jan 10
    truly inspiriting and lively poem collection

    Thanks for site
    very useful
    made my beginning of new year lively on 1st Jan 2010
  • ajeet
    09 Dec 09
    it is really having a great collection of hindi poems.
    thanks alot............
  • utkarsh
    22 Nov 09
    kam ki bat dhundani ho to search kahain mare .
    kya is site ke chakkar katate rahian
  • Anonymous
    12 Nov 09
    hiii all I want to know about the hindi poem "kisaan ki vaseeyat".its there in class 11th or 12th CBSE course....

    the starting lines are "jab baap mara tab yah paaya bhookhe kisaan ke bete ne..."
  • deep
    04 Oct 09
    i want to read these poems, if anybdy has it pls share wd the rest of us.
    MAZDOOR, KADAM KA PED, JO BEET GAYI SO BAAT GAYI.
  • Sunil Sharma
    12 Aug 09
    Hello Bandhu,
    Your collection is really amazing and I feel proud that still Hindi is alive with the same potential as it was before in our hearts.
    I want to say something on the classification you made for Hindi kavita by author name, One kavita कोशिश करने वालों की (Koshish Karne Walon Ki) is written by Dr. Harivansh Rai Bachchan and not by Suryakant Tripathi "Nirala".
    Please make necessary correction to your page.
  • ash
    18 Sep 09
    सतपुड़ा के घने जंगल

    सतपुड़ा के घने जंगल।
    नींद मे डूबे हुए से
    ऊँघते अनमने जंगल।

    झाड ऊँचे और नीचे,
    चुप खड़े हैं आँख मीचे,
    घास चुप है, कास चुप है
    मूक शाल, पलाश चुप है।
    बन सके तो धँसो इनमें,
    धँस न पाती हवा जिनमें,
    सतपुड़ा के घने जंगल
    ऊँघते अनमने जंगल।

    सड़े पत्ते, गले पत्ते,
    हरे पत्ते, जले पत्ते,
    वन्य पथ को ढँक रहे-से
    पंक-दल मे पले पत्ते।
    चलो इन पर चल सको तो,
    दलो इनको दल सको तो,
    ये घिनोने, घने जंगल
    नींद मे डूबे हुए से
    ऊँघते अनमने जंगल।

    अटपटी-उलझी लताऐं,
    डालियों को खींच खाऐं,
    पैर को पकड़ें अचानक,
    प्राण को कस लें कपाऐं।
    सांप सी काली लताऐं
    बला की पाली लताऐं
    लताओं के बने जंगल
    नींद मे डूबे हुए से
    ऊँघते अनमने जंगल।

    मकड़ियों के जाल मुँह पर,
    और सर के बाल मुँह पर
    मच्छरों के दंश वाले,
    दाग काले-लाल मुँह पर,
    वात- झन्झा वहन करते,
    चलो इतना सहन करते,
    कष्ट से ये सने जंगल,
    नींद मे डूबे हुए से
    ऊँघते अनमने जंगल|

    अजगरों से भरे जंगल।
    अगम, गति से परे जंगल
    सात-सात पहाड़ वाले,
    बड़े छोटे झाड़ वाले,
    शेर वाले बाघ वाले,
    गरज और दहाड़ वाले,
    कम्प से कनकने जंगल,
    नींद मे डूबे हुए से
    ऊँघते अनमने जंगल।

    इन वनों के खूब भीतर,
    चार मुर्गे, चार तीतर
    पाल कर निश्चिन्त बैठे,
    विजनवन के बीच बैठे,
    झोंपडी पर फ़ूंस डाले
    गोंड तगड़े और काले।
    जब कि होली पास आती,
    सरसराती घास गाती,
    और महुए से लपकती,
    मत्त करती बास आती,
    गूंज उठते ढोल इनके,
    गीत इनके, बोल इनके

    सतपुड़ा के घने जंगल
    नींद मे डूबे हुए से
    उँघते अनमने जंगल।

    जागते अँगड़ाइयों में,
    खोह-खड्डों खाइयों में,
    घास पागल, कास पागल,
    शाल और पलाश पागल,
    लता पागल, वात पागल,
    डाल पागल, पात पागल
    मत्त मुर्गे और तीतर,
    इन वनों के खूब भीतर।
    क्षितिज तक फ़ैला हुआ सा,
    मृत्यु तक मैला हुआ सा,
    क्षुब्ध, काली लहर वाला
    मथित, उत्थित जहर वाला,
    मेरु वाला, शेष वाला
    शम्भु और सुरेश वाला
    एक सागर जानते हो,
    उसे कैसा मानते हो?
    ठीक वैसे घने जंगल,
    नींद मे डूबे हुए से
    ऊँघते अनमने जंगल|

    धँसो इनमें डर नहीं है,
    मौत का यह घर नहीं है,
    उतर कर बहते अनेकों,
    कल-कथा कहते अनेकों,
    नदी, निर्झर और नाले,
    इन वनों ने गोद पाले।
    लाख पंछी सौ हिरन-दल,
    चाँद के कितने किरन दल,
    झूमते बन-फ़ूल, फ़लियाँ,
    खिल रहीं अज्ञात कलियाँ,
    हरित दूर्वा, रक्त किसलय,
    पूत, पावन, पूर्ण रसमय
    सतपुड़ा के घने जंगल,
    लताओं के बने जंगल।

    - भवानी प्रसाद मिश्र
  • Anonymous
    03 Oct 09
    Fantastic site.
    I am loving it.
    Thank you.
  • Anonymous
    03 Jul 09
    Thats exactly what I was looking for. Very good effort. Just keep it up. Keep uploading new poems.

    thanks.

  • Rohan Kanungo
    24 Jun 09
    It feel very good to find a good place for hindi and urdu poems. I amalso intersted in posting some of my work
  • Anonymous
    22 Jun 09
    Hi this poem is written by my friend please post it on your poem list with his name "Umesh Lad".
    Thank you..
    ********************************
    ग़लतफ़्रेमि

    ग़लतफ़्रेमि क्या है ? क्या है ये ग़लतफ़्रेमि ?
    दो दिलो को मिलने से रोकती ये ग़लतफ़्रेमि
    दो दोस्तों में फुट पडाती ये ग़लतफ़्रेमि
    टूटे हुए रिश्तो में और दुरिया बढ़ती ये ग़लतफ़्रेमि
    भाई बहन के प्यार को भी न समझती ये ग़लतफ़्रेमि
    सपनो की हर दिवार गिराती ये ग़लतफ़्रेमि
    रिश्तो के हर धागे को तोड़ती ये ग़लतफ़्रेमि
    शर्म हया सब बरबाद करती ये ग़लतफ़्रेमि
    दुनिया के दस्तूर से अलग अपना अलग दस्तूर बनाती ये ग़लतफ़्रेमि
    किसीभी धर्म को न मानते अपना नया धर्म बनाती ये ग़लतफ़्रेमि
    छोटे से कमरे में भी अकेलेपन का एहसास कराती ये ग़लतफ़्रेमि
    प्यार से लिखे हर ख़त को जलती ये ग़लतफ़्रेमि
    अरे ख़त क्या चिज़ है दिलो को रुलाती ये ग़लतफ़्रेमि
    सालो की महेनत को पानी में डुबोती ये ग़लतफ़्रेमि
    महल को भी जलाके राख बनती ये ग़लतफ़्रेमि
    ज़ोपदो में भी चूले को ना जलने देती ये ग़लतफ़्रेमि
    क्या बताऊ यारो मुझे ये कविता लिखने को मजबूर बनाती ये ग़लतफ़्रेमि

    Umesh Lad
    ******************************************

    reply me on my mail.
  • Anonymous
    19 Jun 09
    this site doesn't has poems on topic vise,etc.it should be well organised and given on good topics which can also help we the chldren in our works.
  • BHAVYA
    03 Jun 09
    also write poems on doctors
  • Sneha
    27 May 09
    I love this poem , but dont remember last few lines, have searched many websites but can't find it, could some one plz assist and write this for me or send the link plz.
  • Sarjeet Yadav
    12 Sep 09
    Actually this poem was writtten by Makhan Lal Chaturvedi of Pushp Ki Abhilasha fame. Here it goes:-

    गिनो न मेरी श्वास,
    छुए क्यों मुझे विपुल सम्मान?
    भूलो ऐ इतिहास,
    खरीदे हुए विश्व-ईमान !!
    अरि-मुड़ों का दान,
    रक्त-तर्पण भर का अभिमान,
    लड़ने तक महमान,
    एक पँजी है तीर-कमान!
    मुझे भूलने में सुख पाती,
    जग की काली स्याही,
    दासो दूर, कठिन सौदा है
    मैं हूँ एक सिपाही !

    क्या वीणा की स्वर-लहरी का
    सुनूँ मधुरतर नाद?
    छि:! मेरी प्रत्यंचा भूले
    अपना यह उन्माद!
    झंकारों का कभी सुना है
    भीषण वाद विवाद?
    क्या तुमको है कुस्र्-क्षेत्र
    हलदी-घाटी की याद!
    सिर पर प्रलय, नेत्र में मस्ती,
    मुट्ठी में मन-चाही,
    लक्ष्य मात्र मेरा प्रियतम है,
    मैं हूँ एक सिपाही !
    खीचों राम-राज्य लाने को,
    भू-मंडल पर त्रेता !
    बनने दो आकाश छेदकर
    उसको राष्ट्र-विजेता

    जाने दो, मेरी किस
    बूते कठिन परीक्षा लेता,
    कोटि-कोटि `कंठों' जय-जय है
    आप कौन हैं, नेता?
    सेना छिन्न, प्रयत्न खिन्न कर,
    लाये न्योत तबाही,
    कैसे पूजूँ गुमराही को
    मैं हूँ एक सिपाही?

    बोल अरे सेनापति मेरे!
    मन की घुंडी खोल,
    जल, थल, नभ, हिल-डुल जाने दे,
    तू किंचित् मत डोल !
    दे हथियार या कि मत दे तू
    पर तू कर हुंकार,
    ज्ञातों को मत, अज्ञातों को,
    तू इस बार पुकार!
    धीरज रोग, प्रतीक्षा चिन्ता,
    सपने बनें तबाही,
    कह `तैयार'! द्वार खुलने दे,
    मैं हूँ एक सिपाही !

    बदलें रोज बदलियाँ, मत कर
    चिन्ता इसकी लेश,
    गर्जन-तर्जन रहे, देख
    अपना हरियाला देश!
    खिलने से पहले टूटेंगी,
    तोड़, बता मत भेद,
    वनमाली, अनुशासन की
    सूजी से अन्तर छेद!
    श्रम-सीकर प्रहार पर जीकर,
    बना लक्ष्य आराध्य
    मैं हूँ एक सिपाही, बलि है
    मेरा अन्तिम साध्य !

    कोई नभ से आग उगलकर
    किये शान्ति का दान,
    कोई माँज रहा हथकड़ियाँ
    छेड़ क्रांन्ति की तान!
    कोई अधिकारों के चरणों
    चढ़ा रहा ईमान,
    `हरी घास शूली के पहले
    की'-तेरा गुण गान!
    आशा मिटी, कामना टूटी,
    बिगुल बज पड़ी यार!
    मैं हूँ एक सिपाही ! पथ दे,
    खुला देख वह द्वार !!
  • Mustaque Ali Ansari
    19 Apr 09
    My heartfelt thanks to PrayogShala. Visiting this site took me back to 1996-97 when I was student of class 9 and 10 in a Hindi medium school. I feel I am transcended to the golden period of modern Hindi literature (Adhunik Hindi Sahitya). Hope sometimes in my life, I will have ample time for myself to rewind in the peaceful and calm ambiance of Hindi literature. Keep up the good work.
  • Anonymous
    23 Apr 09
    GANGA KI KAL KAL SEENE ME, CHANDAN KI MEHAK PASINE ME
    TAN ME MURALI KI MADHUR TAAN , TAN PAWANTA KA DIVYA GYAN
    VAANI ME KABIRA KI SHAKHI,HAANTO ME RAMAYAN RAKHI
    TAN ME GEETA KA DIVYA GYAN,AUR KARM YOOG JEEVAN PRADHAN
    HAR PAWAN RAAT DIWALI HAI ,MAATI KI GANDH NIRALI HAI
    JINKA ISSS MAATI SE NAATA, UNKA TAN MAN YE NIT GAAAAAAATA

    RATANAKAR NE CHARAN PAKHAREEEEEEEEEEE
    SAGAR JISKE CHARAN PAKHARE DIVYA HIMALAYA MAATHA HAI
    SAARE JAG ME BHARAT MAA KI BAHUT BADI GATTHA HAI

    GANGA KI KAL KAL SEENE ME
  • Himanshu Agnihotri
    30 Mar 09
    Good Attempt...
    Although there is much room for improvement...

    Pls improve the content...similar but much better sites like http://www.geeta-kavita.com/ exists!!

    Anyways keep up the good work!!
  • अभिनव
    05 Feb 09
    उत्तम! उत्तम! अति उत्तम!!

    ये कवितायें मुझे असीम सुख देती हैं |

    महानुभावों हमें ये प्रयास और आगे बढ़ाना है |

    इस दिशा में मैं शीघ्र ही कुछ प्रेषित करूंगा |
  • Roomy Naqvy
    02 Feb 09
    I really loved your collection of poems here and I am going to use some of them to teach my Diploma in Translation students. Thanks, once again.

    Roomy Naqvy
  • nitin
    18 Oct 08
    hi!!
    i just remembered few lines of this poem but could not remember the poet and the full poem..
    can anyone help me on this???
    thanks!!
  • Rose Nanda
    27 May 10
    Hey,which poem are you talking about? Is this one, WO KHOON KAHO KIS MATLAB KA JIS MEIN SHUBASH KA NAHI,WO KHOON KAHO KIS MATLAB KA AA SAKE DESH KE KAAM NAHI. . . ??
  • Sunhari
    28 Aug 08
    sarforoshi ki tamanna , is this poem complete or is there some part left out.
  • Chandan
    14 Sep 08
    varsho tak van me ghom ghoom
    badha vighno ko chum chum
    sah dhoop dham pani patthar
    pandav aaye kuchh or nikhar

    soubhagya na sab din hota he
    dekhe aage kya hota he

    maitri ki raah dikhane ko
    sab ko sumarg pe laane ko
    bheeshan vidhwans bachane ko
    bhagwan hastinapur aaye
    panddav ka sandesha laaye

    do rajya agar to adha do
    par isme bhi yadi badha ho
    to dedo kewal paach gram (gaon)
    rakho apni dharti tamam

    hum vahi khushi se khayenge
    parijan pe asi(ungli) na uthayenge

    duryodhan woh bhi de na saka
    ashish samaj ki le na saka
    ulte hari ko bandhne chala
    jo tha asadhya sadhne chala

    jab naash manuj par chhata he
    pehle vivek mar jata he

    hari ne bheeshan hunkar kiya
    apna swaroop vistar kiya
    dagmag dagmag diggaj dole
    bhagwan kupit hokar bole

    janjeer badha ab saadh mujhe
    haa haa duryodhan baandh mujhe
    hitvachan nahi tune maana
    maitri ka moolya na pehchana

    to le mai bhi ab jata hoo
    antim sankalp sunata hoo

    yachna nahi ab rann hoga
    jeevan jay yaki maran hoga
    takraenge nakshatra nikar
    barsegi bhu par vehni prakhar

    fann sheshnaag ka dolega
    vikraal kaal muh kholega
    duryodhan rann aisa hoga
    fir kabhi nahi jaisa hoga

    bhai par bhai tootenge
    vish baan boond se chhutenge


    I M SORRY,
    I REMEBERED ONLY THIS MUCH..
    IF ANYONE CAN ADD THE REST...

  • jyotsna
    13 Jan 11
    wayas shrigal sab lutenge
    sawbhagya manushya ke futenge

    aakir tu bushaye hoga
    hinsa ka pardaye hoga,

    thi sabha saan sab log uthe
    chup thea ya thea bihos padhe
    kewal do nar na aaghate thea
    dhritrasht vidhur sukh pate thea

    kar jode khadhe pramudhit nirbhay
    dono pukartye jai jai ..
    dats the end !!!
  • ROSHAN
    05 Aug 09
    bhai par bhai tootenge
    vish baan mukh se chhutengke
    Aakhir to bhushai hoga
    Hinsa ka pare dai hoga

    Thi Sabha sannn sab log dare.........
  • shani mahadeva
    15 Apr 09
    vayas shrigal sukh lootenge

    aakhir too bhooshayi hoga
    hinsa ka par dayi hoga

    thi sabha sanna sab log dare
    chup the ya the behosh pade
    keval do nar na aghate the
    dhritarashtra vidur sukh pate the

    kar jod khade pramudit nirbhay
    dono pukarte the jay jay
  • Anirudh
    08 Apr 09
    I think in second paragraph it should be "soubhagya na sab din sota hai" instead of "soubhagya na sab din hota hai".
  • ROSHAN
    24 Feb 09
    Vish Baan muckh se chootenge
    vyah srigal sukh lootenge

    Aakir Tu Bhu Sai Hoga
    Hinsa Ka Pardai Hoga

    The Sabha Sann Sab Log Dare
    Chup the ya the Behosh Khade

    Kewal Do Nar Agah te the
    Dritrastra Vidur Sukh Pate The
    Kar Jod Prabhudit Nirbahay
    Dono Pukarte the Jay Jay
  • chandan vaishnav
    18 Sep 08
    i remembered sum mor lines.......


    thi sabha sann sab log dare
    chup the ya the behosh khade
    kewal do nar na aghaate the
    dhritrashtra vidur sukh pate the

    kar jod khade pramudit nirbhay
    dono pukarte the jay jay.

  • swapnil kumar
    16 Oct 08
    The complete one: I read it in Rashmirathi

    varsho tak van me ghom ghoom
    badha vighno ko chum chum
    sah dhoop gham pani patthar
    pandav aaye kuchh or nikhar

    soubhagya na sab din hota he
    dekhe aage kya hota he

    maitri ki raah dikhane ko
    sab ko sumarg pe laane ko
    duryodhan ko samjhane ko
    bheeshan vidhwans bachane ko

    bhagwan hastinapur aaye
    panddav ka sandesha laaye

    do nyay agar to adha do
    par isme bhi yadi badha ho
    to dedo kewal paach gram
    rakho apni dharti tamam

    hum vahi khushi se khayenge
    parijan pe asi na uthayenge (asi = hathiyaar)

    duryodhan woh bhi de na saka
    ashish samaj ki le na saka
    ulte hari ko bandhne chala
    jo tha asadhya sadhne chala

    jab naash manuj par chhata he
    pehle vivek mar jata he

    hari ne bheeshan hunkar kiya
    apna swaroop vistar kiya
    dagmag dagmag diggaj dole
    bhagwan kupit hokar bole

    janjeer badha ab saadh mujhe
    haa haa duryodhan baandh mujhe

    yeh dekh gagan mujhme lay hai
    yeh dekh pawan mujhme lay hai
    mujhme wilin jhankaar sakal
    mujhme lay hai sansaar sakal

    amaratva phhoolta hai muhme
    sanhaar jhoolta hai mujhme

    udayachal mere dipt bhaal
    bhu-mandal vaksh-sthal vishaal
    bhuj paridhi bandh ko ghere hain
    mainaak meru pag mere hain

    dipte jo grah nakshatra nikar
    sab hain mere mukh ke andar

    drig ho to drishya akaand dekh
    mujhme saara brahmaand dekh
    char-achar jeev, jag kshar akshar
    nashwar manushya, surjati amar

    sat koti surya, sat koti chandra
    sat koti sarit sar sindhu mandra

    sat koti brahma vishnu mahesh
    sat koti jalpati jishnu dhanesh
    sat koti rudra, sat koti kaal
    sat koti dand dhar lokpaal

    janjeer badha kar saadh inhe
    haan haan duryodhan baandh inhe

    bhutal atal paatal dekh
    gat aur anagat kaal dekh
    yeh dekh jagat ka aadi srijan
    yeh dekh mahabhaarat ka run

    mritako se pati hui bhu hai
    pahchaan kahan isme tu hai?

    ambar ka kuntal jaal dekh
    pad ke niche paatal dekh
    mutthi mein tino kaal dekh
    mera swaroop vikraal dekh

    sab janm mujhi se paate hain
    phir laut mujhi mein aate hain

    jihwa se kadhti jwaal saghan
    saanso se paata janm pawan
    par jati meri drishti jidhar
    hansne lagti hai srishti udhar

    main jabhi moondta hoon lochan
    chha jata charo aur maran

    baandhne mujhe to aaya hai
    janjeer badi kya laaya hai?
    yadi mujhe baandhna chahe mann
    pahle tu baandh anant gagan

    sune ko saadh na sakta hai
    wo mujhe baandh kab sakta hai?

    hit wachan nahi tune maana
    maitri ka moolya na pahchana
    to le ab main bhi jata hoon
    antim sankalp sunaata hoon

    yaachna nahi ab rann hoga
    jivan jai ya ki maran hoga

    takrayenge nakshatra nikar
    barsegi bhoo par wahni prakhar
    phan sheshnaag ka dolega
    wikraal kaal munh kholega

    duryodhan rann aisa hoga
    phir kabhi nahi jaisa hoga

    bhai par bhai tootenge
    vish-baan boond-se chutenge
    saubhagya manuj ke phootenge
    vaayas shrigaal sukh lootenge

    aakhir tu bhushayi hoga
    himsa ka pardayi hoga

    thi sabha sann, sab log dare
    chup the ya the behosh pade
    kewal do nar na aghate the
    dhrishtrashtra-vidur sukh paate the

    kar jod khare pramudit nirbhay
    dono pukaarte the jai-jai..



    hope it will satisfy you all....
    thanks
  • Anonymous
    27 Oct 09
    bahut khub...
  • TARUN
    25 Mar 09
    THANX A LOT.
    KEEP UP THE SPIRIT
  • Vikrant Katoch
    17 Mar 09
    Thankyou very much for posting it.
    Thanks
  • Anonymous
    26 Nov 08
    yeh dekh gagan mujh me lay hai
    yeh dekh pawan mujh me lay hai
    mujh me vilin sansar sakal
    mujh me lay hai jhankar sakal

    sub janam mujhee se pate hai
    phir lot mujhi me aate hai,

  • Amit Kumar
    26 Jul 10
    Hi Friend, Google par ye poem pad kar atma khush ho gai. I will be thank ful if you can help me in tracing a another poem about shri Krishan. Mujhe kavi aur kavita ka naam to yaad nahi par ye kavita Krishan- Arjun -Duryodhan sanvad ke vishay main hai jab yudha se pahle dono krishan ke pas madad ke liye jaate hai. A few lines are
    Duryodhan tumhare purav aagman ka satye yatharth hai..
    par Tumse pahle drishtigochar hua mujhko parth hai..

    And so on..

    See if you can help me
  • Nivea
    03 Oct 08
    heya...m so thnkful to u ....i jus lov dis poem lyk nythng...i had it in my syllabus during scul.....its so gud...thnx yaar....
  • Neeraj Kumar
    07 Oct 08
    Hi Everyone,

    I read a poem when I was a kid (some 35-40 years ago :-)). It was something like this

    Yadi hoota kinner naresh mai, Raajmahal main soota
    Sone ka singyasan hoota sar par mukut chamakta
    Pratidin naubat bajti rahati darwaje par mere
    raajmahal main bandijan saare gun gaate rahate mere

    Baandh khadag talwar saath aath ghodon ke rath par chadhata
    Subah saware main kinner ke raajmarg par chalta
    raajmarg par subah saware aati dekh sawaari
    ruk jjate pathik darshan karne praja umadti saari

    jai ho jai ho kinner naresh ki ke naare lag jaate......
    .........

    The wording may not be completely correct above nor is the poem complate

    Does someone have this complete poem? It would be great to read that.

    Thanks,
    Neeraj

  • Naveen C Khantwal
    07 Aug 08
    Is site se Hindi ke jankaro ko ak bahut acha manoranjan ka sadan mile gaya.
    I love this site very-very...............................................................................................................much.
    I LOVE MY HINDI.


    N.C.K
  • Anonymous
    08 Aug 08
    can nebody tell the whole 4 line
    KUCH BAAT HAI KI HASTI MITATI ANHI HAMARI


    n the lines "jab naash manuj par chaata hai pehle vivek mar jaata hai"
    r frm the poem KRISHNA KI CHETAVANi
    i read it in class 6th i remeber it nw also
  • Neeti Bhatnagar
    03 Oct 11
    This line is jab naash manuj par chhata hai, pehle vivek mar jaata hai...from Shree krishna ka doot karya...it used to be a part of Rajashthan board 8th class

  • Sarjeet Yadav
    12 Sep 09
    यूनान-ओ- मिस्र-ओ- रोमा, सब मिट गए जहाँ से ।
    अब तक मगर है बाकी, नाम-ओ-निशाँ हमारा

    कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी
    सदियों रहा है दुश्मन, दौर-ए-जहाँ हमारा

    This is actually a stanza from a MUST KNOW INDIAN SONG Saare Jahan Se Achcha (yes u read that coreect) by Mohammad Iqbal.
  • Naveen Gupta
    03 Sep 09
    bhagwan hastinapur aaye
    pandav ka sandesha laaye
    do nyaya agar to aadha do
    par usme bhi yadi bhada ho
    to dedo kewal paanch gram rakho apni dharti tamaam
    ham wahi khushi se khayenge, parijan par asi na uthayenge
    duryodhan veh bhi de na saka, asis samaj ki le na saka
    ulte hari ko bandhne chala, jo tha asadhya sadhne chala
    JAB NASH MANUJ PAR CHATA HAI, PEHLE VIVEK MAR JAATA HAI
    hari ne bheeshna hoonkar kiya, apna svarup vistaar kiya,
    dagmag dagmag diggaj dole, bhagwan kupit hokar bole,
    hit vachan nahi tune maana, maitri ka moolya na pehchana
    to le main bhi ab jaata hoon, antim sankalpa sunata hoon
    yaachna nahi ab ran hoga, jeevan jaye ya ki maran hoga
    ....................................
    well tell me in case u want it full.
    navnew12@yahoo.com
  • R.P.Chaturvedi
    27 Apr 11
    Dear sir
    Kindly mannage to send the full version of this poem. As i am in look out for it. My e mail i.d. is raka.chatur@gmail.com
  • Amrendra kumar
    08 Nov 10
    Please send the full poem to my mail id and also send some good hindi poem you have.
    thanks in advance.
  • Anonymous
    27 Sep 09
    i need the full version of the following poem. i would appreciate if you can send it to ameliak@rediffmail.com

    bhagwan hastinapur aaye
    pandav ka sandesha laaye
    do nyaya agar to aadha do
    par usme bhi yadi bhada ho
    to dedo kewal paanch gram rakho apni dharti tamaam
    ham wahi khushi se khayenge, parijan par asi na uthayenge
    duryodhan veh bhi de na saka, asis samaj ki le na saka
    ulte hari ko bandhne chala, jo tha asadhya sadhne chala
    JAB NASH MANUJ PAR CHATA HAI, PEHLE VIVEK MAR JAATA HAI
    hari ne bheeshna hoonkar kiya, apna svarup vistaar kiya,
    dagmag dagmag diggaj dole, bhagwan kupit hokar bole,
    hit vachan nahi tune maana, maitri ka moolya na pehchana
    to le main bhi ab jaata hoon, antim sankalpa sunata hoon
    yaachna nahi ab ran hoga, jeevan jaye ya ki maran hoga
  • amol
    04 Sep 09
    plzgive me full poem on my mail in hindi. my son wants to sing in his school function. plzzzzzzzzzzzzzzzzzzzz
  • Anonymous
    19 Oct 08
    kuch baat hai ki hasti mitati nahi hamari
    sadiyo raha hai dushman daure jahan hamara
    sare jahan se achha hindostan hamara
  • sgoyal
    14 Aug 08
    "KUCH BAAT HAI KI HASTI MITATI ANHI HAMARI" is part of 'saare jahan se achcha song'. I have posted the complete song at the website today. Find it at <a href="http://www.prayogshala.com/poems/saare-jahan-se-achcha-iqbal> http://www.prayogshala.com/poems/saare-jahan-se-achcha-iqbal</a>.
  • Anonymous
    30 Aug 09
    Unan Rome Missra Sab mit gaye jahaan se
    Ab tak magar hai baki naamo nishan hamara
    kuchh baat hai ke hasti mit ti nahi hamari
    sadiyon raha hai dushman daure jahaan hamara
  • dr. ram sharma
    31 Jul 08
    a very good and innovative sight to remember the stalwarts of Hindi poetry.
    DR. RAM SHARMA
    SENIOR LECTURER IN ENGLISH
    MEERUT
  • Anonymous
    21 Jun 12
    @SENIOR LECTURER IN ENGLISH
    sir i think u meant "website" instead of "sight"
  • Bikash
    23 Jun 08
    shams ko kya deep dikhayein
    hum raat ke intezaar mein hain
    chamkega koi ek kona hee sahi
    tamas agar dillage ka man banaye

    Your poems are good but can you also put some more poems of Devendra Sharma "Indra". I am not very sure how many people know this person, even I am not very confident but have read some of his poems. Amazing...oz kee parampara inhee ke hanthon mein...
  • Anonymous
    27 Nov 09
    please correct the URL for "mein suraj ko dubane..." , it contains double slashes in the URL.
  • I S Kadri
    22 Apr 08
    Nice site but I think atleast a SEARCH option should be provided to track particular poet or poem
  • Himanshu
    21 Apr 08
    Hi

    "jab naash manush pe chchaata hai pehle vivek mar jaata hai" Which poet wrote these line in which book??

    I would really appreciate if somebody can tell me. I read this book few years back and don't remember aurther's name and book's title.

    Thanks
  • parixshit sharma
    07 Aug 12
    i remember approx complete poem some one has to rectify if i am wrong some were.
  • Anonymous
    17 Dec 10
    jab naash manuj ka aata hai, is written by shri Ramdhari Singh dinker, i clearly dnt know about the name of d poem, but i cn tell u bout d intention of the poet to write dis poem,
    when lord krishna entered the sabha of duryodhan as d last messengr of arjun, to explain that how d yudha will b dengerous for hm , duryodhangot angry n ordered his army to arrest lord krisna
    shri krishna got angry and he explains arjun ,
    d poem says the same feelings with deffrent words , words of dinker ji
    it was like
    yachna nahi aab rann hoga
    jiwan chay ya maran hoga
    duryodhan rann aisa hoga
    fir kbhi nai jaisa hoga
    bhai pr bhai tutega
    vikraal kal ka muh phutega
    takrayege nakshatra nikhar
    barsegi bhu per vihin prakhar
    jab nash manuj ka aata hai
    pehle vivek mar jata hai
    etc


    i dnt u r gettin me or not
    ny wayz
    goodnight............ohh.... sorry .............shubrattri
  • deep
    04 Oct 09
    its a line from the poem "krishan ki chetavani". i dont remember the poet.
  • sameer
    21 Nov 10

    I think dushyant kumar is poet
  • damodar
    25 Aug 08
    book's name is "rashmirathi" and writer is ramdhri singh dinkar
  • gtaplayer
    18 May 10
    todu website hain
  • sgoyal
    21 Apr 08
    These lines are written by Ramdhari Singh Dinkar. I am not exactly sure about the book, but my guess is 'Rashmirati'.
  • Bikash
    23 Jun 08
    Yes the piece is from "Rashmirathi" written by Ramdhari Singh Dinkar.
    Amazing poem about the life of Karna.
  • Teerth
    09 Apr 08
    I have cherished every poem in this collection since childhood. Thank you for bringing it all together
  • Anonymous
    01 Apr 08
    Too good a collection... I have become a fan of this website.
    Please update it with more such poems.
  • Anonymous
    12 Mar 08
    I am not satisfied with this site.the site is not fully updated.there is not whole collection of all the poems by all the authors.Also there should be a summary or a jist form of the poems which could be understood.
  • Anonymous
    27 Feb 08
    fabulous collection

  • shuchi
    23 Feb 08
    no doubt site is excellent please add few poems of mahadevi verma ji
    thanks
  • Anonymous
    13 Feb 08
    Hey
    Its great that you have the titles in English. Its one of the few sites were I found the same.

    My devnagiri is not too polished. I was looking for some poems , it just made it easy to locate them in English. The other sites were all using hi-fi Hindi words. So could not locate the Poems. You are doing a good job. Keep it up.
  • ankita
    07 Sep 10
    poems are ausum but the page does not contain what i wanted
  • Mursal
    06 Feb 08
    Hi everybody,
    This site seems to be very interesting. I love hindi poetry but I can not read hindi;(
    Is it possible to add some hindi poems with english letters in your site?
    Like the titles are already in english: Aag jalti rahe....
    Thank you
  • anand pratap singh
    26 Sep 10
    these are very good if you have any club of readers then please inform me.
  • अशोक कुमार वर्मा
    02 Jan 08
    वाह ! एक ही पृष्‍ठ पर नामी-गिरामी कवियों की रचनाऍं उपलब्‍ध करा कर आपने भारतीय साहित्‍य को बचाए रखने का उत्‍तम सार्थक प्रयास किया है ।

    धन्‍यवाद
  • vinod kumar yadav
    22 Jul 12
    aaj in kavita ko padh kar dil me jyot jagmaga uthe..
  • Trabajo Desdar Casa
    18 Oct 10
    Thanks brother for the news!
  • Rupam
    15 Oct 10
    Its gud site site for all Hindi poem lovers..I want to add there should be some place for person on this forum
    to attach there own poem...
    It will encourage others ..
  • KARTIK
    29 Jul 11
    SAME
  • KARTIK
    29 Jul 11
    IT A NICE THOUGHT OF YOUR. I THINK THAT YOU ARE A GOOD GUY.
  • satindra rawat
    01 Jan 08
    very good web site "i loved it"
  • kanhaiya lal kuldeep
    16 Jul 11
    all these poems are very good. i love these poems.
  • kanhaiya lal kuldeep
    16 Jul 11
    all these poems are very good. i love these poems.
  • abhilasha
    07 Jun 11
    vry mch helped me.......
    thnks 4 dis websit....
  • Sachin tendulkar
    31 Aug 11
    very good poems
  • Amit
    06 Dec 07
    Good collection need some more poems...
  • kailash
    25 Nov 07
    Thank u so much for this wonderful Site!! i loved it!!
  • Anonymous
    30 Apr 12
    yo have been popat
  • Anonymous
    03 Jun 09
    this site is the worst site i have ever seen
  • Anonymous
    07 Oct 10
    you are a bloody mad
  • Yash
    18 Dec 09
    there are no nature poems on your site.There should be nature poems.
  • sanju
    26 Aug 09
    boss whats wrong with you. The content of the site is wonderful. I agree that scope for improvement is still there.
  • Anonymous
    15 Jan 12
    shut the fuck up
  • Anonymous
    25 Oct 07
    IT IS A VERY GOOD SITE.
  • hiren
    26 Jan 12
    i like site.....
    bat comment dont like....
    bat your comment good...
  • Anonymous
    25 Oct 07
    IT IS A FANTASTIC WEBSITE.
  • Anonymous
    01 Oct 07
    Good collection!



  • Om Prakash Yadav
    02 Sep 13
    good collection ,for more poems please visit: poemsonnature.blogspot.in
  • Anonymous
    01 Sep 13
    Ye pure indian
  • Anonymous
    01 Jul 08
    bad have no collection
  • Anonymous
    27 Jun 10
    baddddddddddd
  • praveen
    19 May 11
    it is a great site but for stupids it is a bad site.................
  • Hemlata Singh
    20 Sep 12
    bahut sundar!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!
  • Anonymous
    27 Jun 10
    ya right
  • Anonymous
    23 Jun 09
    bad bbbbbbbbbbbbbbbbbaaaaaaaaaaaaaaaaaadddddddddddddddddddddddddddddddd
  • Anonymous
    23 May 11
    One who is Patriot..can never be BAD!! How many people you know who work for patriotism ??? u fool!!!!!
  • amrita
    22 Jul 09
    no collections nothing at all bbbbbbbbbbbbbbbbbaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaadddddddddddddddddddddddddd
  • Anonymous
    12 Sep 07
    Wow!! Excellent Site...
  • shreya
    27 Jul 13
    fuck karo poem pahdo
  • Anonymous
    10 Jan 13
    chee kachda site
    what is there in this
    sooooooo, big poems
    it is not for small children
  • rahul bhardwaj
    16 Nov 12
    mujh main likhne ki kala hai lekin mujhe rasta nhi malum malum plz koi meri help karo
  • Neha
    22 Dec 11
    chak ji aap ne to sab kuch chak diya sach me. wah wah wah...
  • Rahul
    22 Dec 11
    Dil ki baton ko hi shayri ki jarurat hoti hai dost ,kya karein deedar-E-yaar mein zaban ladkhada jo jate hain ..... :)
  • Taufeeq
    27 Dec 12
    Lekin janaab, shayeri ko bhi zubaan se hi adaa karna padta hai na
  • apps
    27 May 13
    nice,sweet but not so good and not so bad
  • man
    13 Sep 10
    please add hindi hamari matra basha poem
  • Anil
    26 Jan 12
    site is not bad .......,,,,
    bad your mind.......... i right......
    oh you angry........i like ,,,,,
    hay big boy.
  • Anonymous
    18 Nov 09
    not at ollll..........................................................
  • Rags[from kya mast hai life]
    15 May 10
    yes at olll...........................................................................
    awesome blossom
  • Anonymous
    01 Aug 10
    these poems are mind blowing
  • srishti
    20 Jul 10
    r u from kya mast hai life? do u really read these poems
  • Anonymous
    04 Aug 10
    hi i m veer..............4rm kya mast hai life
  • Anonymous
    20 Jul 10
    ya im veer from kya mast hai life
  • Agamya
    25 Jul 10
    if u r on orkut, then plese join me i m a big fan of u !!!!!!! :]
  • Agamya
    25 Jul 10
    if u r on orkut, then plese join me i m a big fan of u !!!!!!! :]
  • Nachiketa
    18 Sep 09
    the webpage contain everything about all the poet and the poetry. each and eveyr poem full with devotion . in my this site on of excellent site i have seen in my life.
  • Anonymous
    21 Oct 08
    fantastic elastic & blastic site for hindi poems.........