Khada Himalaya Bata Raha Hai

खड़ा हिमालय बता रहा है
- सोहनलाल द्विवेदी (Sohanlal Dwivedi)

युग युग से है अपने पथ पर
देखो कैसा खड़ा हिमालय!
डिगता कभी न अपने प्रण से
रहता प्रण पर अड़ा हिमालय!

जो जो भी बाधायें आईं
उन सब से ही लड़ा हिमालय,
इसीलिए तो दुनिया भर में
हुआ सभी से बड़ा हिमालय!

...read more

Ashfaq Ki Aakhri Raat

अशफाक की आखिरी रात
- अग्निवेश शुक्ल

जाऊँगा खाली हाथ मगर,यह दर्द साथ ही जायेगा;
जाने किस दिन हिन्दोस्तान,आजाद वतन कहलायेगा।
बिस्मिल हिन्दू हैं कहते हैं, फिर आऊँगा-फिर आऊँगा;
ले नया जन्म ऐ भारत माँ! तुझको आजाद कराऊँगा।।

...read more

Sinhasan Khali Karo Ki Janta Aati Hai

सिंहासन खाली करो कि जनता आती है
- रामधारी सिंह दिनकर (Ramdhari Singh Dinkar)

सदियों की ठंढी, बुझी राख सुगबुगा उठी,
मिट्टी सोने का ताज पहन इठलाती है
दो राह, समय के रथ का घर्घर-नाद सुनो,
सिंहासन खाली करो कि जनता आती है।

जनता? हां,मिट्टी की अबोध मूरतें वही,
जाड़े-पाले की कसक सदा सहनेवाली,
जब अंग-अंग में लगे सांप हो चूस रहे
तब भी न कभी मुंह खोल दर्द कहनेवाली।

...read more

Kya Likhte Rehte Ho Yun Hi

क्या लिखते रहते हो यूँ ही
- रमेश शर्मा (Ramesh Sharma)

क्या लिखते रहते हो यूँ ही

चांद की बातें करते हो, धरती पर अपना घर ही नहीं
रोज बनाते ताजमहल, संगमरमर क्या कंकर ही नहीं
सूखी नदिया, नाव लिए तुम बहते हो यूँ ही
क्या लिखते रहते हो यूँ ही

...read more

Hindi Poems (हिंदी कविताएं / Poetry)

Poets and their poems have their unique styles of expressing the intricacies of life. Sometimes they bring a smile, sometimes they exhort, sometimes they elighten, and sometimes they seem to mirror realities of our own life..
This page presents some of the my favorite hindi poems. Especially this is more or less about famous hindi poems. Somehow english poems never have that effect on me as hindi ...

...read more

Maine Aahuti bankar Dekha

मैंने आहुति बन कर देखा
- अज्ञेय (Sachchidananda Hirananda Vatsyayana 'Agyeya')

मैं कब कहता हूँ जग मेरी दुर्धर गति के अनुकूल बने,
मैं कब कहता हूँ जीवन-मरू नंदन-कानन का फूल बने?
काँटा कठोर है, तीखा है, उसमें उसकी मर्यादा है,
मैं कब कहता हूँ वह घटकर प्रांतर का ओछा फूल बने?

मैं कब कहता हूँ मुझे युद्ध में कहीं न तीखी चोट मिले?
मैं कब कहता हूँ प्यार करूँ तो मुझे प्राप्ति की ओट मिले?
मैं कब कहता हूँ विजय करूँ मेरा ऊँचा प्रासाद बने?
या पात्र जगत की श्रद्धा की मेरी धुंधली-सी याद बने?

...read more

Inklab ke Geet Sunane Wala Hoon

कलमकार हूँ इन्कलाब के गीत सुनाने वाला हूँ
- हरिओम पंवार (Hari Om Panwar)

बहुत दिनों के बाद छिड़ी है वीणा की झंकार अभय
बहुत दिनों के बाद समय ने गाया मेघ मल्हार अभय
बहुत दिनों के बाद किया है शब्दों ने श्रृंगार अभय
बहुत दिनों के बाद लगा है वाणी का दरबार अभय
बहुत दिनों के बाद उठी है प्राणों में हूंकार अभय
बहुत दिनों के बाद मिली है अधरों को ललकार अभय

...read more

Mukti ki Aakansha

मुक्ति की आकांक्षा
- सर्वेश्वरदयाल सक्सेना (Sarveshwar Dayal Saxena)

चिड़िया को लाख समझाओ
कि पिंजड़े के बाहर
धरती बहुत बड़ी है, निर्मम है,
वहॉं हवा में उन्‍हें
अपने जिस्‍म की गंध तक नहीं मिलेगी।

यूँ तो बाहर समुद्र है, नदी है, झरना है,
पर पानी के लिए भटकना है,
यहॉं कटोरी में भरा जल गटकना है।

...read more

Tum Chalo to Hindustan Chale (तुम चलो तो हिंदुस्तान चले)

A fresh, creative and inspiring ad which says ‘I’ need to make the beginning... 'I' have the power to change..

...read more

Vande Mataram - Lata Mangeshkar

This is my favorite patriotic song. Amazing lyrics topped with the magical voice of Lata makes this the most purifying and thrilling song. The energy and enthusiasm displayed in the video to take our country forward is quite infectious. It says 'WE' are India's future and 'WE' will overcome all obstacles in the path of making it a proud country.

...read more